देह पर नेतागिरी की दबंगई नहीं चलती, मेरे यार

मैं नरेन्द्र मोदी को सहानुभूति की आँख से देखता हूँ।

शीर्ष पर स्थापित व्यक्ति नितांत अकेला होता है। वह अपने दिल की बात, खास तौर पर अंतरंग व्यक्तिगत बात, किसी से साझा नहीं कर सकता।

यह बात हर ऐसे शख्स पर लागू है। उस पर भी जो विवाहित है और जिसका अपना परिवार है।

परिवार अक्सर ऐसे व्यक्ति की मदद न कर रास्ते में रोड़े अटकाता है। पति पत्नी या कोई पुत्र पुत्री कभी कभी पद का भार हल्का कर सकते हैं। पर तभी जब आपस में अंतरंग समझदारी हो।

हाल के दिनों में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की पत्नी मिशेल ओबामा या भारत के पूर्व गृहमंत्री लालकृष्ण आडवाणी की पुत्री प्रतिभा आडवाणी इसके उदाहरण हैं।

पर ऐसा सहज आत्मीय प्रेमपूर्ण सहारा किसी बिरले को ही प्राप्त है। नरेन्द्र मोदी जैसे परिवार विहीन व्यक्ति के लिए तो ऐसे सहज सम्बंध तकरीबन अप्राप्य ही हैं।

दिलचस्प बात यह भी है कि राजनेता अक्सर अपने हड़बड़ाए, ज्वरग्रस्त संसार में इस तरह सुधबुध खो बैठता है कि उसे शायद ऐसी वैयक्तिक अंतरंगता की तलब भी नहीं महसूस होती।

जो संगी साथी होते हैं वे उसी ज्वरग्रस्त संसार के सहयात्री होते हैं। उनकी आंखों पर तो खुद ही पट्टी बंधी होती है और वे नायक से वही कहते हैं जो उनकी दृष्टि में नायक को सुनने में अच्छा लगे। इस तरह धीरे धीरे इस तरह के बुने कृत्रिम संसार में नायक कैद हो जाता है।

हाल के इतिहास में इंदिरा गांधी के साथ यही हुआ। कोई कभी इंदिरा के कंधे पर हाथ रख कर कान में नहीं फुसफुसाता कि इंदिरा जाओ आराम करो, या कि इंदिरा यह तुम क्या पागलपन कर रही हो – जयप्रकाश को क्यों जेल में डाल रही हो।

मैं यदि नरेन्द्र मोदी का अंतरंग मित्र होता तो उन्हें किनारे ले जा कर कहता – मोदी, तुम आदमी हो मशीन नहीं, कुछ दिनों के लिए राजपाट राजनाथ सिंह या सुषमा स्वराज को सौंप कर छुट्टी पर चले जाओ, वास्तव में बदरी, केदार या धर्मशाला में ध्यान में डूबो। या फिर कुछ दिन संगीत सुनो और देर तक सोओ या दूर तक टहलने निकल जाओ। देह से उतना ही जूस निकालो, जितना तुमने उसमें भरा है। देह पर नेतागीरी की दबंगई नहीं चलती, मेरे यार।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यवहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया (makingindiaonline.in) उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY