‘बेटा थक गया क्या… आज तेरी पसंद का ढोकला बना दूं!’

जब नरेन्द्र मोदी लगातार तीसरे दिन बनारस में रैली कर रहे थे और लगातार 14 घंटे भाषण, दर्शन, बयान, कार्यकर्ताओं से मिलना और अभिवादन स्वीकार करना. एक टीस सी मन में उठी. ये आदमी रोज 18 घंटे काम करता है, पैसे के लिए नहीं, खानदान के लिए नहीं, अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए नहीं… … Continue reading ‘बेटा थक गया क्या… आज तेरी पसंद का ढोकला बना दूं!’