निर्दोष पुरोहित और प्रज्ञा को 9 साल तक जेल में रखने वालों, 9 दिन की रिमांड तो बर्दाश्त करो

वकील और वरिष्ठ काँग्रेसी नेता कपिल सिबल अपने साथी पी चिदंबरम की CBI रिमांड को ले कर ऐसे उखड़े हुए हैं कि हाई कोर्ट से अग्रिम ज़मानत रद्द होने के बाद और चिदंबरम के गिरफ्तार होने के बाद भी सुप्रीम कोर्ट में निष्क्रिय (Infructuous) हो चुकी याचिका लड़ने के लिए खड़े हो गए।

कपिल सिबल को ना जाने क्यों समझ नहीं आया, और क्यों चिदंबरम जैसे पढ़े लिखे सुप्रीम कोर्ट के वकील के लिए ऐसी याचिका पर बहस करते रहे जिसका कोई औचित्य नहीं रहा था।

कपिल सिबल, अभिषेक मनु सिंघवी और सलमान खुर्शीद तो बड़े वकील हैं, जबकि मेरे जैसे अनाड़ी व्यक्ति ने कह दिया था कि गिरफ्तार होने के बाद सुप्रीम कोर्ट कोई दखल नहीं देगा और नियमित जमानत मांगने के लिए कहेगा और आज सुप्रीम कोर्ट में वो ही हुआ।

अभी ED (प्रवर्तन निदेशालय) द्वारा गिरफ्तारी रोकने पर बहस चल रही है जो कल भी चलेगी। कपिल सिबल सुप्रीम कोर्ट में कह रहे हैं कि चिदंबरम का मीडिया ट्रायल किया जा रहा है। उन्होंने चिदंबरम की गिरफ्तारी के मामले में CBI और ED को ही नहीं, कोर्ट को भी नहीं बख्शा ठीक रवैया ना अपनाने के लिए।

कपिल सिबल और काँग्रेस को आज चिदंबरम की 9 दिन की भी रिमांड बर्दाश्त नहीं हो रही। उसकी मीडिया में चर्चा उन्हें मीडिया ट्रायल लग रहा है, मगर वो भूल रहे हैं कि इन्हीं चिदंबरम और काँग्रेस ने ‘हिन्दू आतंकवाद’ का एक नया ‘खोटा सिक्का’ बाज़ार में चला कर निर्दोष साध्वी प्रज्ञा, कर्नल पुरोहित और स्वामी असीमानंद को 9 साल जेल में रख कर यातनाएं दी थीं।

इन्हें ये भी याद होना चाहिए कि 12 साल तक नरेंद्र मोदी का मीडिया ट्रायल ही नहीं, अदालतों में मुकदमें ठोकने का काम किया गया था और अदालतों की निष्पक्षता भी क्या थी, इन्हे पता होगा।

वो मीडिया ट्रायल करने वाले पत्रकार और तीस्ता सीतलवाड़ जैसे वकीलों की फ़ौज काँग्रेस के निर्देशों पर मोदी को जेल भेजने की कोशिश करती रही। अमित शाह को तो भेज ही दिया था।

आप ने जिन्हे गिरफ्तार किया और आपके राज में जिनका मीडिया ट्रायल कराया गया, वो निर्दोष थे लेकिन चिदंबरम और उनके बेटे के खिलाफ तो पर्याप्त सबूत हैं।

बावजूद इसके कार्ति चिदंबरम ने CBI अधिकरियों को धमकी दी थी कि हमारी सरकार आ गई तो एक-एक को देख लेंगे। ऐसी धमकी काँग्रेस नेता आनंद शर्मा ने भी दी थी।

हमें पता है, आपकी सरकार आ जाती तो आज वो सभी CBI/ ED के अधिकारी नौकरी से बाहर होते जो काँग्रेस के नेताओं के खिलाफ सबूत जुटा कर कार्रवाई कर रहे हैं। मगर अफ़सोस, आप लोगों का हसीन सपना टूट गया। अब तो आप ज़ोर शोर से तैयारी करिए उस दिन की जिस दिन माँ-बेटे गिरफ्तार होंगे।

काँग्रेस को बड़ा सहारा आजकल पाकिस्तान का है जो चिदंबरम की गिरफ़्तारी के खिलाफ काँग्रेस के साथ खड़ा है। चिदंबरम को लगता है सिबल से काम नहीं चल रहा तो ख़ैबर कुरैशी को कहे इन्हें गाइड करे क्योंकि कुरैशी उन्हें पसंद है, जिसे उन्होंने एनरॉन केस में भारत के खिलाफ खड़ा किया था।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यवहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया (makingindiaonline.in) उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY