कश्मीर के हिन्दुकरण के बिना 370 का हटना एक कॉस्मेटिक बात

इज़रायल के निर्माण की टाइम लाइन को समझें।

1919 में पहली बार इज़रायली राष्ट्र की अवधारणा स्वीकार की गई। 1939 में पील कमीशन द्वारा इज़राइल के निर्माण की संस्तुति की गई। नवंबर 1947 में ब्रिटिश उपनिवेश फिलिस्तीन को फिलिस्तीनी और यहूदी टुकड़ों में बाँटने का प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र में पास हुआ। मई 1948 में डेविड बेन गुरियन ने स्वतंत्र इज़रायली राज्य की घोषणा की…

पर इज़रायल इतने से नहीं बन गया। इज़रायल ना तो किसी कमीशन की संस्तुति से बना, ना किसी संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव से, ना किसी घोषणा से…

इज़रायल बना तो उस युद्ध से जो लगभग निहत्थे यहूदियों ने 1948 में चार-चार अरब राज्यों की सेनाओं से लड़ा। ज़मीन की एक-एक इंच के लिए यहूदियों ने खून बहाया, एक-एक आदमी खून की आखिरी बूँद और बंदूक की आखिरी गोली तक लड़ा…

कश्मीर से धारा 370 का हटाया जाना सिर्फ एक कागज़ी प्रस्ताव है। उससे ज़मीन पर कुछ नहीं बदला है। एक इंच भी ज़मीन जिहादियों के चंगुल से नहीं छूटी है। ऋषि कश्यप की भूमि आज भी मलेच्छों के कब्ज़े में है…

कश्मीर मिलेगा तो सिर्फ शक्ति से मिलेगा। अदम्य मनोबल से मिलेगा। जन जन के उस समर्पण से मिलेगा जिसकी अपेक्षा मातृभूमि की मिट्टी करती है। यह किसी कानून से नहीं मिलेगा, किसी पीस टॉक से नहीं मिलेगा, किसी गुडविल जेस्चर से नहीं मिलेगा। सरकार ने सिर्फ रास्ते खोले हैं… चले हम उन पर एक कदम भी नहीं हैं…

इसलिए कहूँगा, विजय पर्व मनाने का समय अभी नहीं आया है। सरकार की, प्रधानमंत्री और गृहमंत्री के दृढ़ निश्चय और इच्छाशक्ति की सबने भूरि भूरि प्रशंसा की है, पर आगे की योजना पर सोचना है। अभी बहुत कुछ किया जाना बाकी है जिससे कि धारा 370 हटने के कुछ वास्तविक लाभ भी हों। इसलिए सही दिशा में दबाव बनाए रखिये क्योंकि कश्मीर के हिन्दुकरण के बिना 370 का हटना एक कॉस्मेटिक बात भर है।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यवहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया (makingindiaonline.in) उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY