आप अपनी बताएं! मैंने तो काँग्रेस का घोषणापत्र पढ़कर दिया था भाजपा को वोट

हम लोग सब से अधिक मेहनत, असफलता का ठीकरा फोड़ने के लिए व्यक्ति तलाशने की करते हैं। एक बार सर्व सहमति से व्यक्ति तय हो गया कि बस वो ही सार्वजनिक कूड़ेदान बन जाता है जिसमें हर कोई, अपने आक्षेपों का कूड़ा फेंक कर आता है। एक ही बात को समझ लेना आवश्यक है। भाजपा … Continue reading आप अपनी बताएं! मैंने तो काँग्रेस का घोषणापत्र पढ़कर दिया था भाजपा को वोट