माँ की रसोई से : बेल का शरबत

डॉ शिव दर्शन मलिक बताते हैं बेल के फल का जीवनकाल काफी लंबा होता था।

पेड़ से टूटने के कई दिनों बाद भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता था।

बेल का इस्तेमाल कई तरह की दवाइयों को बनाने में तो किया जाता था साथ ही ये कई स्वादिष्ट व्यंजनों में भी प्रमुखता से इस्तेमाल होता था।

बेल में प्रोटीन, बीटा-कैरोटीन, थायमिन, राइबोफ्लेविन और विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता थी।

तो मैंने सोचा क्यों न इसे फिर से प्रचलन में लाया जाए, तो आइये जानते हैं बेल का शरबत बनाने की सबसे आसान विधि.

सबसे पहले के बेल फल को फोड़कर उसका गूदा निकालकर पानी में अच्छे से हाथ से मैश कर लें.

इसे मिक्सी में न चलाएं, जितना अधिक हाथ से मैश करेंगे उतना स्वादिष्ट बनेगा.

इसमें मटके का ठंडा पानी मिलाइए जिससे तीन ग्लास शरबत निकल आये.

फ्रिज के पानी का उपयोग न करें.

अब इसमें दो चम्मच गुड़, आधा चम्मच भुंजा पिसा जीरा, पुदीने की पट्टियां मसलकर  और स्वाद अनुसार काला नमक और डालकर अच्छे से मिला लीजिये.

अब इसे कांच के ग्लास में छान लें, लीजिये तैयार है आपका बेल का शरबत.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY