काँग्रेस को क्या अधिकार डॉ आंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने का?

कल 14 अप्रैल… डॉ. बाबासाहब आंबेडकर की जयंती।

चुनाव का माहौल है। काँग्रेस के नेता कल डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा पर माला डालने अवश्य आएंगे। उन्हें रोकिये। उनका कोई अधिकार नहीं है बाबासाहब की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने का…

जिस काँग्रेस ने जीते जी डॉ आंबेडकर को जलील किया, उनकी उपेक्षा की और उनके मृत्यु के 63 वर्ष के बाद भी जो संविधान की धारा बदलने के नाम पर उनका अपमान कर रहे हैं, वो किस अधिकार से आंबेडकर जी के नाम से वोट मांग सकते हैं?

स्वतन्त्रता मिलने तक काँग्रेस ने आंबेडकर जी का खुलकर विरोध किया। उनके आग्रह के विरोध में गाँधी जी ने अनशन किया और यह सुनिश्चित किया कि आंबेडकर जी उनकी शरण आएं। यह समझौता ‘पूना पैक्ट’ के नाम से जाना जाता है।

‘व्हॉट काँग्रेस एंड गांधी हैव डन टू द अनटचेबल्स?’ (काँग्रेस और गांधी ने अछूतों के लिये क्या किया?) इस किताब के साथ, आम्बेडकर ने गांधी और काँग्रेस दोनों पर अपने हमलों को तीखा कर दिया था, उन्होंने उन पर ढोंग करने का आरोप लगाया था।

यह तो अच्छा हुआ कि अंग्रेजों की पहल पर राष्ट्रीय सरकार बनी, जिसके कारण काँग्रेस को आंबेडकर जी को सरकार में रखना पड़ा, और उन्हें क़ानून मंत्री बनाना पड़ा। अकेले नेहरू की चलती, तो आंबेडकर जी कभी भी केंद्र में मंत्री नहीं बन पाते।

बाद में नेहरू की काँग्रेस ने यह सुनिश्चित किया कि सन 1952 का पहला लोकसभा का चुनाव आंबेडकर जी जीत नहीं पाएं। बॉम्बे नॉर्थ से उन्होंने चुनाव लड़ा, लेकिन काँग्रेस ने सभी हथकण्डे अपनाकर उन्हें पराभूत किया।

फिर 1954 में महाराष्ट्र के भंडारा में उन्होंने उपचुनाव लड़ा। यहाँ उनके अनुयाइयों की संख्या बहुत ज्यादा थी, किन्तु यहाँ भी काँग्रेस ने उनको जीतने नहीं दिया। अंत में अन्य दलों की मदद से वे बंगाल से राज्यसभा में चुने गए।

यह समझने के लिए कि काँग्रेस ने आंबेडकर जी के साथ कैसा बर्ताव किया, उन्ही के एक आलेख का अंश –

“Having led the untouchables against the Congress for full five years in the Round Table Conference and in the joint Parliamentary Committee, I could not pretend to be unaffected by the results of the elections. To me the question was: Had the untouchables gone over to the Congress. Such a thing was to me unimaginable. For, I could not believe that the untouchables-apart from a few agents of the Congress who are always tempted by the Congress gold to play the part of the traitor — could think of going over to the Congress en masse forgetting how Mr Gandhi and the Congress opposed, inch by inch up to the very last moment, every one of their demands for political safeguards.”

जीते जी आंबेडकर जी को अपमानित करने वाली काँग्रेस ने उन्हें मरने के बाद भी नहीं छोड़ा। आंबेडकर जी के संविधान में छेड़छाड़ कर, उसे बदल कर, ये काँग्रेसी, उन्हें अब भी अपमानित ही कर रहे हैं।

आंबेडकर जी धारा 370 के पक्ष में नहीं थे। शेख अब्दुल्ला, नेहरू और कृष्णा स्वामी अय्यंगार जैसे काँग्रेस के कुछ नेताओं के आग्रह पर उन्होंने इस धारा का अस्थायी रूप से संविधान में समावेश किया था। लेकिन उनका मानना था कि यह धारा जल्द से जल्द हटना चाहिए। और अभी कुछ दिन पहले काँग्रेस ने घोषणा पत्र में यह वादा किया है कि धारा 370 कभी नहीं हटेगी..!

संविधान सभा की बैठकों के वृत्त में यह लिखा गया है कि डॉ आंबेडकर ने देशद्रोह की धाराओं पर आग्रही भूमिका ली थी और यह धाराएं अपने कठोर रूप में रहें, यह सुनिश्चित किया था। विगत सप्ताह काँग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में देशद्रोह की धारा 124 A हटाने का वचन दिया..!

इसका अर्थ स्पष्ट है। काँग्रेस ने डॉ. आंबेडकर के विचारों की और उनके लिखे संविधान की धज्जियां उड़ाई हैं। इस लिए उन्हें डॉ बाबासाहब आंबेडकर की प्रतिमा पर हार पहनाने का कोई हक़ नहीं है। सच्चे आंबेडकर जी के अनुयायी हैं, तो इन काँग्रेसियों को रोकिये..!

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यवहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया (makingindiaonline.in) उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY