राष्ट्रीय चरित्र बदलने को ललकारता चीन

वर्ष 2012 में चीन की सेना भारत में घुसी थी। तत्कालीन पीएम साहब ने कड़ी निंदा की थी।

उसी बीच हमारे पास एक चीनी कंपनी का मेल आया। उनकी मशीन देखने में और specification के अनुसार ठीक थी, यूरोपियन यूनियन या अमेरिका से बहुत सस्ती… एकदम लुभावना ऑफर था।

हमने मेल का जवाब दे दिया कि आपकी सेना हमारे देश के खिलाफ खड़ी हो रही है… हम न करते आपसे व्यवसाय।

शायद कम्पनी के किए अचरज वाला जवाब था। उसने मनाया और बताया कि बिज़नेस और पॉलिटिक्स को अलग रखो… वगैरह वगैरह…

हम अड़े रहे… कम्पनी चुप मार के आगे बढ़ गई… बैंगलोर की एक कंपनी अब उनकी मशीन बेच रही है।

इसके एक माह के बाद चीनी दूतावास से फोन आया (जैसा उसने बताया, पता नहीं दूतावास से ऐसे फ़ोन आते हैं या नहीं)… हाल चाल के बाद पूछा कि क्या मैं कभी चीन गया हूँ?

मैने बताया कि हां गया हूँ, जर्मनी कंपनी में काम करते थे, उसकी सब्सिडियरी है, मीटिंग में गए थे… और फिर चीन का बाज़ार और वर्कमैनशिप भी देखने गए है।

उन्होंने पासपोर्ट नम्बर लिया और थैंक्स बोलकर फोन कॉल काट दी।

खैर… आज की बात करते हैं… पाकिस्तानी आतंकी गैंग को चीन ने एक बार फिर बचाया…

चीन को न पाकिस्तान से प्यार है… न आतंकी गैंग से… उसको भारत में स्थिरता आने पर भारत के बाज़ार में उत्पादन बढ़ने की स्थिति को रोकने की चाहत है…

उसके लिए ये खतरा है… हमारी बड़ी आबादी, इंजीनियर, डॉक्टर, मैनेजर, अकाउंटेंट, शिक्षक आदि की खेप के साथ तैयार भारत ही सिर्फ चीन के बाज़ारी दादागिरी को चुनौती दे सकता है… ये उसका निशाना है…

लेकिन अभी भी भारत का राष्ट्रीय चरित्र सुस्त पड़ा है… इसको जगाने का काम नरेंद्र मोदी कर रहे हैं… बीते 5 साल थे ज़न चेतना के, अगले 5 साल होंगे बवण्डर के…

उत्पादन बढ़ाने का का ये बवण्डर शुरू हो जाना चाहिए था लेकिन अभी सोया है देश… कुछ सुगबुगाहट हुई है लेकिन अभी हमारी क्षमता के 5% भी नहीं है…

चीन को इसलिए काँग्रेस को मदद करके लाना है… उसके फेंके टुकड़ों पर पलने वाले भारतीय कम्युनिस्ट कुछ कर नहीं पा रहे क्योंकि उनको काँग्रेसी माहौल चाहिए… भारत के कम्युनिस्ट नामक गिद्ध और बीमारी सब चाट जांएगे लेकिन इस माहौल में नहीं बल्कि काँग्रेसी माहौल में…

चीन हर चाल अपने लिए चल रहा है… वो पाकिस्तान और काँग्रेस की मदद कर रहा है जिससे भारत का सुस्त राष्ट्रीय चरित्र चुपचाप सोया रहे और बाज़ार पर चीन का राज बना रहे…

चीन भारत की जनता को चुनौती दे रहा है कि अपना चरित्र बदलो या समाप्त कर देंगे…

अब चीनी सामान के बहिष्कार का समय गया… उठ खड़े हो जाओ… ट्रेडिंग चरित्र बदलो… उत्पादन करो… वो हर चीज़ खुद बनाओ जो चीन से आती है… जय प्रकाश जुनेजा पाशी बनो…

पाकिस्तान को कभी भी रगड़ मारेंगे… वहाँ मारो जहाँ चीन को लगे… चीन को यहाँ हराओ…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY