प्रधानमंत्री मुद्रा योजना : छोटे काम का बड़ा लाभ

कोई छोटे level पर काम शुरू करना चाहते हैं, जैसे general स्टोर-किराना shop… जूता-चप्पल store.. फ़ास्ट फ़ूड stall.. छोटे लेवल पर हार्डवेयर शॉप… बर्तन-क्रॉकरी शॉप… मोबाइल रिपेयरिंग एंड सेलिंग शॉप.. आदि कोई भी छोटे लेवल पर बिक्री या प्रोडक्ट बनाकर बेचने का काम..

यहाँ मैं केवल छोटे लेवल पर किये जाने वाले काम के बारे में लिख रहा हूँ, जिनमें अमूमन 2 लाख या कम के फंड की आवश्यकता होगी..

“प्रधानमंत्री मुद्रा योजना” के अंतर्गत apply कीजिए

क्या क्या करना होगा..

एक पेपर पर क्रमवार लिखिए.. काम क्या करना चाहते हैं.. कितना अनुभव है.. आपके पास कितना फंड इकट्ठा है..

दुकान कहाँ खोलनी है.. उसका किराया कितना है.. किरायानामा बनवाइए..

आसपास उस प्रोडक्ट की कुछ दुकानें हैं?.. उनके मुकाबले आपका काम कैसे आगे बढ़ पाएगा..

सामान कहाँ से खरीद कर लाना है,

कुल कितना सामान शुरुआत में लाना होगा,

साल भर में कितनी बिक्री अनुमानित हैं, कितना प्रॉफिट अनुमानित हैं..

क्योंकि आपको लोन शुरू होने के अगले महीने से ही लोन की किश्त- installment भी जमा करनी होंगी..

इसे कहते हैं project report. हालांकि छोटे स्तर के loan के लिए आवश्यक नहीं.. पर ये आपने लिख रखा है तो बैंक में लोन कर्ता को आसानी होगी.. और आपका point भी clear रहेगा..

आगे बड़े loan के लिए इस तरह की practice काम आएगी..

आधार, PAN, वोटर id… किरायानामा दुकान का.. ये रखिए..

बैंक मैनेजर, credit officer के पास जाकर प्रपोजल रखिए..

बात कीजिए, उनके सवालों का धैर्यपूर्वक जवाब दीजिए.. उनको पर्याप्त समय दीजिए..

बैंक की स्वीकारोक्ति पर दुकान के लिए लाए जाने वाले सामान की कोटेशन लाइये.. बैंक में दीजिए..

बैंक से लोन कितने वर्ष का होगा, किश्त कितने की बनेगी.. ये सब discuss कीजिए..

सामान लाने के बाद पक्का बिल बैंक में जमा कीजिए..

समय पर लोन की किश्त जमा करते रहिए..

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY