हमले की गीदड़ भभकी देने वाला पाकिस्तान क्यों मांगने लगा बातचीत की भीख?

जिस एक एफ-16 लड़ाकू विमान की धौंस पाकिस्तान सन् 1985 से भारत को देता आ रहा है, जो लड़ाकू विमान उसे अमेरिका की तरफ से मिले थे, आज उसे भी मार गिराया भारतीय वायु सेना ने; आने वाले समय के लिए पाकिस्तान के पास एफ 16 के अतिरिक्त कोई और विकल्प नहीं था।

इस बात को पुष्टि से कहने के पीछे कारण ये है कि पिछले कई वर्षों में कोई बड़ी मिसाइल टेस्टिंग भी पाकिस्तान ने नहीं की, और ना ही एफ 16 के अलावा किसी और लड़ाकू विमान की चर्चा भी वह कर पाया।

आज सुबह ही समाचार में देखा कि नस्र नाम के मिसाइल को भारतीय सीमाओं पर खड़ा किया गया, जिसकी मारक क्षमता केवल 70 किलोमीटर है। क्या ऐसे मिसाइल के साथ पाकिस्तान भारत के साथ युद्ध की सोचेगा?

क्या 70 किलोमीटर मारक क्षमता वाले मिसाइल के साथ पाकिस्तान उस देश के साथ लड़ेगा जिसके पास 5 हज़ार किलोमीटर की मारक क्षमता की मिसाइलें हैं। सोचिए यदि भारत एफ 16 को मार गिरा सकता है तो पाकिस्तान के पास क्या विकल्प बचेगा?

इसलिए पाकिस्तानी आर्मी जनरल इस बात को समझते हैं कि उसके पास कोई और विकल्प है नहीं। यदि भारत ने दोबारा हमला कर दिया तो पाकिस्तान बस भागने की सोच सकेगा।

इसलिए आधिकारिक रूप से पाकिस्तान बातचीत की भीख मांगने लगा, और हमेशा हमले की गीदड़ भभकी देने वाले पाकिस्तान ने इस बार कहा कि कृपया करके एक बार बातचीत का मौका अवश्य दें।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY