इसीलिये मैं इस नेतृत्व को छोड़ने के लिये तैयार नहीं

याद है वह दिन जब पुलवामा हमले जैसा ही सन्नाटा था पूरे देश में? हम सब साँसे थामे टीवी से चिपके थे। पूरी दुनिया के हर न्यूज़ चैनल पर एक ही खबर चल रही थी। जब होटल ताज के कई कर्मचारी अपनी जान पर खेलकर देशी-विदेशी मेहमानों को सुरक्षित कर रहे थे तब हमारी बुद्धिजीवी … Continue reading इसीलिये मैं इस नेतृत्व को छोड़ने के लिये तैयार नहीं