पाकिस्तान एक बदमाश देश, पाकिस्तानी होना शर्म की बात

पूरे विश्व में एक ही देश है जिसका नाम ही गाली है। यूरोप से लेकर अमेरिका, साउथ अफ्रीका, चीन, कोरिया, सिंगापुर… इन सब देशों में अगर अपनी हड्डी तुड़वानी हो तो किसी को ‘पाकी’ बोल दीजिए… फिर देख तमाशा सुताई का… पाकी का मतलब बदमाश, चोर, लुच्चा, छिनैत, आतंकवादी, भांड, दल्ला…

तीन-चार दिन पहले पाकिस्तानी चैनल वाले बता रहे थे कि अफगानिस्तान सीमा पर अफगान सैनिकों ने दुस्साहस किया जिसके बदले पाकिस्तानी सेना ने 50 अफगानी सैनिक मार गिराए।

पूरा पाकिस्तान इस खबर पर लहालोट हो रहा था… इस खबर के आने के कुछ घंटे बाद अफगानिस्तान ने वीडियो रिलीज़ कर दिया। उस वीडियो में दिखा कि पाकिस्तानी टैंक लेकर गए थे… अफगानी सैनिकों ने गोली मार के टैंक छीन लिए… बचे पाकिस्तानी सैनिक हाथ जोड़ के खड़े हो गए… उसके बाद अफगानी सैनिकों ने उनकी पैंट उतार के झापड़ ही झापड़ मारे… बेशर्मी के साथ खुद के लात खाने को वीरता बताने वाला एक ही देश है बेशर्म पाकिस्तान।

अफगानिस्तानी प्रधानमंत्री अशरफ गनी से साफ़ कह दिया कि अब तालिबान के कारण पाकिस्तान से कोई बात नहीं होगी… वो जल्द ही पाकिस्तान से डिप्लोमेटिक रिश्ते तोड़ देगा… इसके बाद अफगानिस्तान अब Free Balochistan को मान्यता देकर BLA/ BNM/ BSO से और विस्थापित बलोच नेताओं से बात करके सीमा के मसले सुलझा लेगा और पाकिस्तान के पिट्ठू तालिबानियों को खोज खोज के मारेगा।

बलोच नेशनल मूवमेंट (BNM) के हम्माल हैदर ने कल कहा कि पाकिस्तान माने विश्व की शर्म, एक बेगैरत मुल्क… इंसानियत का दुश्मन। बलोच लोग भारत के कदम का इंतज़ार कर रहे हैं… भारत के समर्थन में बलोच लोग लाहौर तक खदेड़ के पाकिस्तानियों को मारेंगे।

उधर परसों डेरा बुग्ती से कुछ दूर अवारन में बलोच महिलाओं ने पाकिस्तान के चार सैनिकों को बख़्तरबंद गाडी से खींच के पटक पटक मारा… बाकी बहादुर पाकिस्तानी सैनिक भाग खड़े हुए… बाद में ये वीर वापस आके 14 वर्ष के 2 निहत्थे मासूम बलोच बालकों को गोली मार के चले गए।

पिछले सात दिन में बलोची लड़ाकों ने पाकिस्तानी सेना को कुत्ता बना रखा है… कुल मिला कर आमने सामने की 10 लड़ाई में 70 के ऊपर पाकिस्तानी सैनिक मारे गए।

विदेश यात्राओं में भी मैंने देखा है कि पाकिस्तानी होना एक पाकिस्तानी के लिए ही शर्म की बात है। जैसे भारत के लोग अन्य देशों में रहते हैं वैसे ही पाकिस्तानी लोग भी रहते हैं।

यूरोप के देशों में ये सारे पाकिस्तानी खुद को ‘Indian’ बताते हैं और बड़े कायदे से पेश आते हैं। बातों बातों में India के कई शहरों का नाम लेते हैं और खुद को इसके आस पास के ही किसी गाँव का रहने वाला बताते हैं।

ये पाकिस्तानी अपने धंधे भी भारतीय नामों से चलाते हैं… पूरे यूरोप में अगर आप किसी भारतीय रेस्तरां में जाते हैं तो मान के चलिए कि आप किसी पाकिस्तानी के रेस्तरां में खाना खा रहे हैं – बशर्ते वो किसी सरदार जी का रेस्तरां न हो।

यूरोप के शहरों Frankfurt, Berlin, Stuttgart, Paris, Lyon, Nice, Copenhagen, Amsterdam, Brussels, Vienna, Zurich आदि कई शहरों में मैंने देखा है। नौकरी करते हैं तो सिर्फ काम देने वालों को पता होता है कि ये पाकिस्तानी है।

काम भी इनको पाकिस्तानी रेस्तरां आदि में ही मिलता है… लेकिन ये लोग हर आते जाते मिलने वालों को खुद को Indian बताते हैं…

मेरी पहली मुलाकात पाकिस्तानियों से 1997 में हुई थी जब Frankfurt के शॉपिंग मॉल Kaufhalle पर खड़े वो दो आदमी जो चौकीदार थे, वे मेरा Indian होना सुनते ही बिदक गए थे। खैर मज़ा आया था बात कर के…

मेरे फ्रेंच मित्रों ने एक बार Lyon में एक भारतीय रेस्तरां में रात्रि भोज के लिए आमंत्रित किया जिसका नाम था New Delhi Restaurent… रेस्तरां में ताजमहल, खजुराहो, बनारस के घाटों की फोटो… राजस्थान के रेगिस्तान और गुजरात के कच्छ का पोट्रैट… गणेश जी की मूर्ति… नटराज की मूर्ति… माने पूरा भारतीय माहौल…

जब मैंने उनसे पूछा कि वो कहाँ के हैं तो बताया “पंजाब”… मैंने कहा “पंजाब बहुत बड़ा है किस जगह के”… तो बोला बॉर्डर वाले पंजाब से… मैंने पूछा कौन सा बॉर्डर… वो बन्दा अंग्रेज़ी से सीधे पंजाबी पर उतर आया… “की करना सी साड्डे पिंड दा नाव जन्न के”…

मैंने कहा, “वीर जी असी पंजाबी जांदे ने… पंजाब विच रहे सी, हाल्ले घुमदे रैंदे ने… दस्सो त्वाडे पिंड दा नाम”… वो भाई फिर हिंदी – उर्दू में उतर आया और दुबकते हुए बोला… हम पाकिस्तानी पंजाब के हैं… लेकिन इनको बताना नहीं… नहीं तो ये लोग आना बंद कर देंगे… India के कारण आते हैं… Pakistani लिखा तो आना तो दूर जी, यहाँ से जाना ही पड़ जाएगा।”

मैंने पूछा क्यों… तो बताया कि ये लोग पाकिस्तानी का मतलब बदमाश, चोर, लुच्चा, छिनैत, आतंकवादी मान लेते हैं…

इसके बाद फिर मैंने Paris, Bastille, Berlin, Copenhagen, Amsterdam के रेस्तरां में भी यही मामला पाया। Copenhagen के बड़े रेस्तरां India Palace में आप चले जाएं तो उनको जल्दी रहती है कि किसी तरह जल्दी से आप वहां से दफा हों। वो आपको सिर्फ नॉनवेज Beaf, Lamb आदि का मेनू बताएंगे क्योंकि उनको मालूम है कि अगर Indian है तो मेनू सुनते ही भाग खड़ा होगा…

जिस देश के नागरिकों को अपने देश का नाम दूसरे देश में बताने में शर्म आती हो तो समझिये उस देश की हालात क्या है। जिस देश का नागरिक अपने देश पर शर्म महसूस करता हो, जिस देश का नागरिक खुद के देश को नकार देता हो, जिस देश का नागरिक अपने देश के शहरों, कस्बों का नाम लेने में कतराता हो उस देश की हैसियत क्या है…

पाकिस्तान एक ऐसा देश है जो खुद के होने पर शर्म महसूस करता है, जिसके नागरिक खुद पर और अपने देश पर शर्म महसूस करता है। ऐसे देश का टूट जाना ही अच्छा … पाकिस्तान का नेस्तनाबूद हो जाना ही अच्छा… इस पाकिस्तान का अब ख़त्म हो जाना ही अच्छा है…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY