युद्ध केवल रण भूमि में ही नहीं लड़ा जाता

युद्ध केवल रण भूमि में ही नहीं लड़ा जाता, अब युद्ध का स्कोप और कैनवास कहीं व्यापक है, आप अपने घर मे बैठ कर भी इस छद्म युद्ध से लड़ सकते हैं जो पाकिस्तान ने हमारे ऊपर थोपा हुआ है।

जानिए कैसे

भारतीय व्यापारियों ने अरबों रुपए का छुहारा बॉर्डर से वापिस लौटा दिया। करोड़ों रुपये की चीनी 200% टैक्स के चलते बॉर्डर से वापिस कर दी गयी। सीमेंट के 800 से ज्यादा कंटेनर कराची में पड़े हुए हैं, क्योंकि भारतीय व्यापारियों ने उनके ऑर्डर्स कैंसिल कर दिए हैं, आगे भी आर्डर होने के कोई लक्षण नहीं दिख रहे, क्योंकि 200% इम्पोर्ट ड्यूटी लगने के बाद पाकिस्तान से खरीदने का कोई औचित्य ही नहीं है।

पाकिस्तान अनुमानित 50 करोड़ प्रतिदिन का नुकसान उठा रहा है। वहां के व्यापारियों में हाहाकार मच चुका है। बहुत ही सफल रणनीति।

अगर सिमेन्ट और ताजा फल (अन्नानास, अमरूद) के सैकडों ट्रक भी नुकसान में शामिल कर लें तो ये नुकसान (70-80 करोड़) प्रतिदिन का हो सकता है।

तीन रास्तों के जरिये भारत में प्रतिदिन लगभग 400- 450 ट्रक माल आता है जो 200% टैक्स बढ़ोतरी के चलते वापिस हो रहा है।

15 दिन के अन्दर, पहले से टूट चुके पाकिस्तान में त्राहि त्राहि मचने की सम्भावना है। लगभग 8000 बड़े व्यापारी बर्बाद हो सकते हैं। व्यापार विनिमय नीति के तहत, कुछ खान पान की आवश्यक वस्तुएं भारत भी पाकिस्तान को भेजता है, जो अब पूरी तरह से बन्द हैं। इनमें नमक, पानी, आटा, टमाटर व रिफाइंड मुख्य रूप से शामिल हैं। इसकी वजह से वहां इन सब समान के दाम बढ़ने वाले हैं आने वाले दिनों में।

इसके अलावा भारत 2 बिलियन डॉलर से ज्यादा का एक्सपोर्ट पाकिस्तान को हर साल करता है। इनमें से बड़ी तादात कच्चे माल की होती है, जिसका इस्तेमाल करके पाकिस्तान में finished products बनाये जाते हैं और एक्सपोर्ट किये जाते हैं। अगर ये कच्चा माल ना मिले, या फिर पाकिस्तान इन पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ा दी, तो उसी का नुकसान है, क्योंकि फिर उसके एक्सपोर्ट पर प्रभाव पड़ेगा और finished products की कीमत बढ़ जाएगी, जिससे पाकिस्तानी प्रोडक्ट्स competition से बाहर हो जाएंगे।

भारत को इस व्यापार को लेकर कोई फ़र्क नहीं पड़ने वाला है अपितु पाकिस्तान में इसे लेकर बड़ी तादाद में व्यापारी बर्बादी की कगार पर पहुँच जायेगा।

वहीं दूसरी तरफ UN में और पाकिस्तान की फंडिंग को रोकने के लिए FATF में भी पाकिस्तान को Grey list में ही रखने का दबाव बनाया जा रहा है। इससे पाकिस्तान को विदेशों से मिलने वाली फंडिंग बहुत कम हो गयी है।

आप लोग सोशल मीडिया पर भी प्रयास जारी रखें, देशद्रोही और पाकिस्तान परस्तों को ठिकाने लगाइए। ये लोग पाकिस्तान की सॉफ्ट पावर हैं, पाकिस्तान को कवरिंग फायर देते हैं, इन्हें निबटा दीजिये।

और रही बात सेना की, तो सेना तो बदला लेगी ही……. 360 डिग्री ट्रीटमेंट सुना होगा…… बस वही होगा।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY