…क्योंकि मैं सभी धर्मों का बहुत सम्मान करता हूँ

पुलवामा के आत्मघाती आतंकी के माता-पिता के अनुसार उनका पुत्र इसलिए आतंकी बन गया क्योंकि उसे सुरक्षा बलों ने पीटा था।

मंडल आयोग लागू होने की घोषणा के विरोध में बहुत से छात्रों ने विरोध किया; कई लोगों की पुलिस ने ठुकाई भी की। मेरी जानकारी में इनमें से कोई भी आतंकी नहीं बना।

राम मंदिर आंदोलन के समय मुलायम सरकार ने कई लोगों को मार दिया, पिटाई की, लेकिन तब भी वे लोग आतंकी नहीं बने।

स्पेस साइंटिस्ट और इस वर्ष मोदी सरकार द्वारा पद्म भूषण से अलंकृत नम्बी नारायणन को भी सुरक्षा बलों ने पीटा था, फिर भी उन्होंने सज्जनता नहीं छोड़ी।

अगर मैं सुरक्षा बलों से पिट कर आता, तो उसके बाद माता-पिता से भी पिटता कि ऐसी क्या हरकत की थी कि सुरक्षा बलों ने ठुकाई कर दी।

उत्तर भारत के छोटे शहरों के किसी भी चौराहे पर खड़े हो जाइये. पुलिस दो-चार लड़कों को हर दिन पीट देती है।क्या वे आतंकी बन जाते हैं?

चलिए, हम तो गऊ पूजक और गऊ मूत्र पीने वाले लोग है।

फिर यमन, जहाँ सौ प्रतिशत नागरिक एक ही धर्म के हैं, वे क्यों एक-दूसरे को उड़ा रहे हैं?

या, पड़ोस के आतंकी देश में क्यों शिया और अहमदी को मार रहे हैं?

सीरिया में एक ही धर्म के लोग क्यों एक-दूसरे का गला रेत रहे हैं?

सद्दाम ने क्यों कुवैत पर कब्ज़ा कर लिया? क्या कुवैती सुरक्षा बलों ने सद्दाम को ठोका था?

इराक में क्यों एक ही धर्म से जुड़े लोग अपने भगवान के नाम पर अपने धर्म और विधर्मी लड़कियों और महिलाओं से बलात्कार कर रहे हैं? वे लोग कहते हैं कि उनका भगवान ऐसे कार्यो की अनुमति देता है!

ईरान-इराक युद्ध के समय चार-पांच वर्ष के बच्चों को उनके माता-पिता के सामने ज़मीन में गड़ी बारूदी सुरंगों (land mines) के ऊपर दौड़वा दिया। उन बच्चों का क्या अपराध था?

अफ़ग़ानिस्तान में सब एक-दूसरे को क्यों मार रहे हैं?

इंडोनेशिया में लोग अपने भगवान के नाम पर क्यों आतंकवादी हमले कर रहे हैं?

या फिर, चीन को ऐसी क्या आवश्यकता आ पड़ी कि वह कुछ करोड़ नागरिकों को कैंप में देशभक्ति का पाठ ‘प्यार के साथ’ सिखा रहा है? चीन को तो कोई उपदेश भी नहीं दे रहा कि प्यार से नहीं, बल्कि बात-चीत से मसला सुलझाया जाए।

मिस्र क्यों और कौन से आतंकवाद से त्रस्त है?

नाइजीरिया में बोको हराम ने अपने भगवान के नाम पर 276 स्कूली छात्राओं को क्यों अगवा कर लिया; उनका बलात्कार किया; सेक्स गुलाम बना कर रखा? क्या अपराध था उनका?

सोमालिया में क्यों एक ही धर्म के लोग एक-दूसरे को मार रहे हैं?

और सोमालिया के आतंकी केन्या के लोगों को क्यों मार रहे हैं?

मोजांबिक के काबो दलगादो क्षेत्र में वे कौन से लोग हैं जो अपने भगवान के नाम पर आम जनता को मार रहे हैं?

टर्की में कौन से आतंकी किसको और क्यों मार रहे हैं?

माली और सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक में अंसार दीन और अल क़ाएदा अपने ही लोगों से कौन सा भाईचारा निभा रहे हैं? क्यों लड़कियों और महिलाओं का बलात्कार कर रहे हैं?

आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता।

इसीलिए किसी धर्म, किताब या भगवान का नाम नहीं लिया है। आप भी मत लीजियेगा। क्योंकि मैं सभी धर्मों का बहुत सम्मान करता हूँ।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY