सपा-बसपा गठबंधन से पहले ही नाखुश यादव वोटर को भ्रमित करने वाला है ये बयान

अंग्रेज़ी के एक बड़े मशहूर और Best Selling उपन्यासकार हुए हैं Ken Follett… उन्होंने एक बहुत जबरदस्त उपन्यास लिखा था… Jackdaws…

ये द्वितीय विश्वयुद्ध की एक कहानी है… French Resistance का एक दल, नाज़ी सेना का एक टेलीफोन एक्सचेंज उड़ा देते हैं।

जर्मन फौज का एक मेजर जो उस exchange की सुरक्षा का इंचार्ज है वो psychological और physical torture का expert है। युद्ध में दुश्मन से सूचना जल्दी से जल्दी निकलवाने के लिए वो अपने कैदियों का मनोवैज्ञानिक torture करता है।

एक खूबसूरत महिला से पूछताछ करते हुए उससे बहुत तमीज़ से पेश आता है। बेहद सम्मानपूर्वक बात करता है। उसको beer भी पिलाता है। सिगरेट offer करता है।

Beer पीने से जब उसका bladder full हो जाता है, और वो washroom जाना चाहती है तो जाने नहीं देता… बगल के कमरे में एक दूसरे कैदी को बेरहमी से मारा जा रहा है। उसकी हृदय विदारक चीखें सुनाई दे रही हैं। तभी मेजर उस दूसरे कैदी की टांग baseball bat से तोड़ देता है। उसकी चीख सुन के उस खूबसूरत महिला का पेशाब निकल जाता है।

सबके सामने पेशाब निकल जाने से वो इतनी हताश निराश हो जाती है कि psychologically एकदम टूट जाती है… फिर मेजर उससे पहला सवाल करता है और वो सब कुछ उगल देती है… बिना पूछे ही सब कुछ बता देती है…

इसे कहते हैं singing like a Canary… Canary एक चिड़िया होती है, जो एक बार गाना शुरू होती है तो फिर रुकती ही नहीं, गाती रहती है…

कल संसद में मुलायम सिंह उसी Canary की तरह गाने लगे। उन्होंने नरेंद्र मोदी की शान में कसीदे पढ़े। उनको आशीर्वाद दिया। सभी सांसदों को पुनः जीत के आने का आशीर्वाद दिया। साथ ही कहा कि हम तो आपके जितना बहुमत ला नहीं सकते, इसलिए मेरी कामना है कि आप ही एक बार फिर प्रधानमंत्री बनें…

He was singing like a Canary…

इस घटना का विश्लेषण मैं कुछ इस प्रकार करता हूँ कि मोदी जी भी physical के साथ साथ psychological warfare के माहिर हैं। उन्होंने अपने विरोधियों को मनोवैज्ञानिक रूप से एकदम तोड़ के रख दिया है… ऐसा कि अब उनमें लड़ने की क्षमता ही नहीं बची… मोदी ने एक को पीटा और उसकी चीखें सबको सुनायीं… लालू यादव का हश्र सबने देख लिया है…

मुलायम समेत कोई भी नेता अपनी बुढौती जेल में नहीं बिताना चाहता।

कल मुलायम सिंह ने संसद में जो किया वो total complete surrender था… इस बयान के बाद अब उत्तरप्रदेश की लड़ाई और आसान हो गयी है।

ये बयान कोई यूँ ही नहीं दे दिया गया। ये बहुत सोच समझ के दिया गया रणनीतिक बयान है। इसने यूपी के यादव वोटर को पूरी तरह दिग्भ्रमित कर दिया है…

यादव वोटर में 3 वर्ग हैं –

पहला 18 से 25 वर्षीय… ये मोदी का fan है।

दूसरा 25 से 40 वर्ष का… ये अखिलेश यादव का fan है।

तीसरा 40 से 80 साल तक का… ये मुलायम सिंह को नेता मानता है।

मोदी 30% यादव वोट को पहले ही तोड़ चुके हैं। कल का बयान 30% वोटर को दिग्भ्रमित कर देगा… ये वो वर्ग है जो बसपा से हुए गठबंधन से पहले ही नाखुश था, वो अब पूरी तरह दिग्भ्रमित है।

देखना अब ये है कि मायावती इसे कैसे लेती हैं और क्या प्रतिक्रिया देती हैं।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY