मौसमी मेंढकों के नहीं, प्रारब्ध के अधीन है परिणाम

जबसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद दिया है तभी से सोशल मीडिया से लेकर मीडिया तक में (लाइलाज अपवादों को छोड़ कर) मौसम बदला बदला सा नज़र आ रहा है। मैं यह इसलिये नहीं कह रहा हूँ क्योंकि नरेंद्र मोदी ने एक और बढ़िया आक्रामक भाषण दिया बल्कि इसलिए … Continue reading मौसमी मेंढकों के नहीं, प्रारब्ध के अधीन है परिणाम