कुंभ स्नान करती महिलाओं के फोटो प्रकाशित होने पर हाई कोर्ट नाराज़, दी चेतावनी

प्रयागराज में चल रहे कुम्भ महापर्व में आई श्रद्धालु महिलाओं के स्नान की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी किए जाने पर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने नाराज़गी जताई है।

इसके साथ ही हाई कोर्ट ने मीडिया को कुंभ मेले में स्नानघाटों पर फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी पर लगी रोक का सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया है।

कोर्ट ने चेतावनी देते हुए कहा है कि प्रिंट या फिर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया अगर आदेश की अवहेलना करते हैं तो उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

कोर्ट ने बताया कि घाट के सौ मीटर के क्षेत्र में तस्वीरें लेना प्रतिबंधित किया गया है, इसके बावजूद समाचारपत्रों में स्नान करती महिलाओं की तस्वीरें प्रकाशित की जा रही हैं और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया भी इसे दिखा रहा है।

हाई कोर्ट ने मेला अधिकारी को निर्देश दिया है कि वह मीडिया को कोर्ट के आदेश की जानकारी देकर अनुपालन सुनिश्चित कराएं।

अधिवक्ता असीम कुमार की याचिका पर यह आदेश जस्टिस पीकेएस बघेल और जस्टिस पंकज भाटिया की खंडपीठ ने दिया है।

याचिका में स्नानघाटों पर फोटोग्राफी पर रोक के आदेश को कुम्भ मेले में पालन कराने की मांग की गई है। कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई की तारीख 5 अप्रैल तय की है। उन्होंने मेलाधिकारी से जवाब भी मांगा है।

उल्लेखनीय है कि यूपी मेला प्राधिकरण अधिनियम में भी घाट पर फोटोग्राफी पर प्रतिबंध है। कोर्ट ने मीडिया को निर्देश दिया है कि वह घाटों की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी पर प्रतिबंध का कड़ाई से पालन करे।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY