संजय भंडारी को क्या सचमुच धरती आकाश निगल गए!

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने 25 जनवरी को 500 करोड़ के कालेधन के हिसाब किताब की जानकारी लेने के लिए दिल्ली से गौतम खेतान को दबोच लिया था।

खेतान अभी ED की रिमांड पर है। रॉबर्ट की दो नम्बरी दुनिया के राज़दार राजीव सक्सेना और दीपक तलवार को भी भारतीय जांच एजेंसियां 30 जनवरी को दुबई से लादकर दिल्ली ले आईं थीं।

इसके बाद भी बात पूरी तरह बन नहीं रही थी। इन गुर्गों का मुंह खुलवाने वाली सटीक जानकारी की कमी जांच एजेंसियों को खल रही थी।

अतः सीधी उंगली से घी निकलता नहीं देखकर जांच एजेंसियों की उंगलियां टेढ़ी हुईं।

परिणामस्वरूप रॉबर्ट का सबसे खास राज़दार, रॉबर्ट के दो नम्बरी कालेधन के साम्राज्य के चप्पे चप्पे की खबरों का भारी भंडार संजय भंडारी 31 जनवरी को UAE से अचानक लापता हो गया।

उसे धरती खा गयी या आकाश निगल गया? यह पता नहीं चल रहा।

लेकिन उसके गायब होते ही खबरें उसी तरह बाहर आने लगीं जिस तरह बोतल से जिन्न बाहर आता है।

जैसे कि लंदन में रॉबर्ट का 19 करोड़ का एक दो नम्बरी फ्लैट है। इस बात का पता तो पूरे देश को एक डेढ़ बरस पहले लग गया था। लेकिन अब नाम पते सहित यह पता चला है कि लंदन में 19 करोड़ का केवल एक फ्लैट नहीं बल्कि कम से कम 350-400 करोड़ की कीमत वाली 9 कोठियों का दो नम्बरी बेनामी मालिक है रॉबर्ट।

इसी तरह गौतम खेतान से 500 करोड़ की दो नम्बरी रकम का हिसाब किताब लेने के लिये जांच एजेंसियां 31 जनवरी तक जूझ रहीं थीं। लेकिन 31 जनवरी को धरती आकाश द्वारा संजय भंडारी को निगले जाने के बाद वही जांच एजेंसियां अब गौतम खेतान से 500 करोड़ नहीं बल्कि उसके सिंगापुर वाले बैंक एकाउंट में जमा हुए 5800 करोड़ की रकम का हिसाब किताब मांग रहीं हैं और खेतान भी अब सच उगल रहा है कि उसके खाते में यह रकम किसने जमा कराई, क्यों जमा कराई और किस के लिए जमा कराई?

ऐसी खबरों को देखने, सुनने, पढ़ने और समझने के बाद क्या आपको भी यह लगता है कि संजय भंडारी को सचमुच में धरती आकाश निगल गए हैं?

मुझे तो बिल्कुल नहीं लग रहा!

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY