मणिकर्णिका : खानों की छाती पर लोहा कूट कर खड़ी राजमहिषी

मणिकर्णिका फिल्म के लिहाज से औसत है। एक हिंदी फिल्म की तमाम खामियां इसमें हैं, जिसमें दो बेहद खटकती हैं।

पहली, जबरन ठूंसी गयी धर्मनिरपेक्षता और दूसरे ज़बर्दस्ती के गाने। फिल्म का पहला हाफ और भी कसा हुआ हो सकता था, अगर जबरन गाने नहीं ठूंसे गए होते।

कांग्रेस और वामपंथ की युति का पारिस्थितिकी-तंत्र कितना मजबूत है, यह इससे पता चलता है कि शिवाजी का हिंदू-स्वराज मणिकर्णिका में केवल स्वराज रह जाता है, स्वधर्म रह तो जाता है, लेकिन हिंदू धर्म नहीं रहता। यह सब मैं तब कह रहा हूं, जबकि रानी और झलकारी बाई के साथ युद्धाभ्यास में रत औरतों के सामने बजरंगबली का झंडा लहरता है, गुलाम गौस और पठान के मुंह से हर-हर महादेव का उद्घोष भी है और आखिर में रानी लक्ष्मीबाई के स्वर्गारोहण के अति फिल्मी दृश्य में ॐ भी बनता है…..

कहते हैं न, दिल मांगे मोर…..


फिल्म के उज्ज्वल पक्ष हैं और कहीं अधिक हैं। खासकर इस यो-यो जेनरेशन और मिलेनियल किड्स के लिए। पटना में आसपास से कई आवाज़ें सुनने को मिलीं, जिससे पता चलता है कि हमारे इतिहास के साथ 70 वर्षों में ही कितना बलात्कार किया गया है। झांसी की रानी के बारे में जो भी टिप्पणी आ रही थी, वह distorted थी।

फिल्म देखने के दौरान गुस्से, क्षोभ और आंसू के कई क्षण थे। जब अंग्रेजों की मक्कारी दिखाई जा रही थी, तो मेरे सामने बारहां सोनिया गांधी और उसके पुत्र के चेहरे सामने आ रहे थे, सिंधिया की दोगलई और गद्दारी के दृश्य देखते समय ज्योतिरादित्य का चेहरा सामने आ रहा था और इस देश के दुर्भाग्य पर छाती कूटने को जी कर रहा था, जो आज भी वह म.प्र. में श्रीमंत ही है, जबकि उसे………

गुलाम गौस के चेहरे में कलाम का चेहरा गड्डमड्ड हो ही रहा था कि हिंदू-स्वराज को स्वराज में बदलने की चालाकी से पूरा मूड खराब हो गया….


वैसे, जैसा कि वामपंथी बुद्धिपिशाच कहते हैं कि मोदीजीवा ने साज़िश के तहत तमाम तरह की राष्ट्रवादी फ़िल्में इसी साल बनवा दी हैं, तो यही कामना कीजिए कि इस तरह की साज़िशें और भी परवान चढ़ें। हिंदी सिनेमा की सड़ांध और खान-त्रयी की बदबूदार फिल्मों के बीच ताजा हवा के इस झोंके का स्वागत कीजिए……।

और हां, सलाम कीजिए कंगना को…
जो खानों की छाती पर लोहा कूट कर खड़ी है, राजमहिषी की तरह….
हर-हर महादेव, विजयी भव….।

(दस के मीटर पर आंकूं तो फिल्म फर्स्ट डिवीजन से पास है…6 नंबर)

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY