अश्लील चित्र, गौमांस और ब्लैकमेल : लव जिहाद का नया पैंतरा

सन 2005 के बाद से केरल में करीब 3000- 4000 महिलाओं के धर्म परिवर्तन हुए, केरल की उच्च न्यायालय ने इस पर केरल डीजीपी को तलब किया और उन्हें इस केस की जांच करने को कहा। अब उसके बाद केरल के डीजीपी ने सबूतों के अभाव में कहा कि कोई भी संगठन इस कार्य को नहीं कर रहा।

बहरहाल न्यायमूर्ति के टी संकरन बस पुलिस की आलोचना करके रह गए, और अंततः इसी बात पर उन्हें इस मुक़दमे को बंद करना पड़ा। मगर इसके बाद देश में जगह जगह लव जिहाद की ऐसी और कहानियां सामने आने लगी।

सन 2016 में हादिया नाम की एक लड़की की कहानी सामने आयी, जिसमें उसका धर्म परिवर्तन हुआ था, जिसका दावा उसके पिताजी ने किया था कि यह लव जिहाद का मामला है और धर्म का ज़बरन परिवर्तन किया गया है। 2017 में केरल के उच्च न्यायालय ने इसे लव जिहाद करार दिया, हालाँकि हादिया सर्वोच्च न्यायालय गयी और यह साबित किया कि उसने अपनी मर्ज़ी से अपना धर्म परिवर्तन किया है।

अभी तक यह तो साबित नहीं हो पाया है कि ऐसे धर्म परिवर्तन के कार्यक्रम चलाये कहाँ से जा रहे हैं, मगर ये तो ज़ाहिर है कि ऐसा कुछ हमारे समाज में चल रहा है। लव जिहाद का ऐसा ही एक मामला सामने आया है बाड़मेर से। 9 महीने बाड़मेर से बड़ौदा की तरफ जा रही युवती अचानक गायब हो गयी थी। जिसके बारे में बाद में पता कि अहमदाबाद पहुँच कर वह दिल्ली आई और दिल्ली से फ्लाइट लेकर श्रीनगर गयी।

श्रीनगर में गुलज़ार नाम के एक व्यक्ति के पास वह पहुंची। गुलज़ार बाड़मेर के एक कैफ़े में काम करता था। उसने युवती की अश्लील तसवीरें बनाकर उसे ब्लैकमेल करना शुरू किया और कहा कि वह जम्मू कश्मीर आ जाये। युवती ने बाड़मेर वापस आने के करीब एक महीने बाद गुलज़ार पर आरोप लगते हुए ये बातें बताई।

गुलज़ार ने जब उसे श्रीनगर बुलाया तो उसके बाद उस पर दबाव बना कर उससे शादी करने का वीडियो और कुछ दस्तावेज़ बनाकर उसके परिजनों को भेजा, जिसके बाद उसके परिजनों ने कोतवाली थाना में उस लड़के के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज कराया। युवती ने जब इस बार आरोप लगाए तो बताया – “उस पर गोमांस खाने व नमाज़ पढ़ने का भी दबाव बनाया गया।

गुलज़ार के परिजन उस लड़की पर गलत नज़र रखते थे। वह वीडियो और दस्तावेज़ झूठे थे। उस वीडियो को बनाने के लिए 20 बार प्रयास किये गए थे। पुलिस दो बार श्रीनगर जांच करने भी आयी, लेकिन क्यूंकि गुलज़ार का बड़ा भाई इक़बाल जम्मू कश्मीर पुलिस में काम करता था, उसने पुलिस को गुलज़ार से मिलने नहीं दिया।” युवती ने इक़बाल और गुलज़ार के बीच की बातचीत सुनी, जिसमें वे उसे सऊदी अरब में बेचने की बात कर रहे थे। गुलज़ार ने जब श्रीनगर में एक कैफ़े में काम शुरू किया, तो युवती मौके से उसकी जेब से पैसे चुरा पाई, और पास के ई मित्र से अपना टिकट बुक कराकर बाड़मेर आ गयी।

अपने पहले दिए गए बयान में युवती ने कहा कि वह अपनी मर्ज़ी से ही गुलज़ार के साथ रह रही थी, इसलिए पहले एफआईआर दर्ज नहीं की पुलिस ने, मगर अब युवती ने बताया है कि , उसने यह बयान दबाव में दिया था। हालाँकि तस्वीरों से ऐसा तो नहीं लगता कि लड़की दबाव में थी, मगर फ़िर सवाल उठते हैं कि ऐसा क्या था कि लड़की भाग आयी कश्मीर से वापस ?

अगर हम पुराने कुछ मामलों को देखें तो समझ आता है कि ऐसे कई मामले हैं, जिनमें लड़की अपनी मर्ज़ी से शादी तो कर लेती है मुस्लिम लड़के से मगर, बाद में उस पर यही दबाव बनाये जाते हैं, जो इस युवती पर बनाये गए, फिर चाहे वो गोमांस खाना हो, नमाज़ पढ़ने का दबाव हो, या फिर उसके बाद तलाक देकर हलाला हो।

युवती ने बताया कि उसे सऊदी अरब बेचने की तैयारी चल रही थी, हो सकता है कि यह भी बात सच हो। बहरहाल इस पूरे मामले से जो कुछ बातें समझ आती है, वो ये हैं कि लव जिहाद के काम ज़ोर शोर से चल रहे हैं। गुलज़ार का बड़ा भाई इक़बाल जो कि जम्मू कश्मीर पुलिस में है, उसका भी संरक्षण इस मामले को मिला हुआ था। लड़की की तस्वीरें, वीडियो में देख कर पता चल रहा है कि वह गुलज़ार के साथ रिश्ते में तो थी, उसकी सारी तस्वीरें उससे दबाव में खिंचवाई गयी हैं, यह मानना थोड़ा मुश्किल है।

अब लगता है कि मामला अभी और आगे बढ़ेगा, मामले में सच्चाई क्या है इसे तो बाद में ही बताया जा सकता है, लेकिन ये ज़रूर तय है कि हिन्दू लड़कियों को प्यार के जाल में फँसाने के बाद, मुस्लिम लड़के उन्हें तरह तरह रूप से प्रताड़ित करते हैं। ऐसे मामले पहले भी सामने आये है, और इनके रुकने के अभी आसार नहीं हैं।

  • अंकित सुमन

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY