323 बनाम तीन

किसने सोचा था कभी ये दिन भी देखने को मिलेगा? 200 सालों से यानी अंग्रेज़ों के ज़माने से जिस प्रकार षडयंत्रपूर्वक ब्राह्मणों, क्षत्रियों और बनियों को अपने ही देश मे अछूत बना दिया गया था वहाँ कभी ऐसी तस्वीर होगी ये कभी सोचा भी ना था।

झूठ का एक ऐसा माहौल पैदा कर दिया गया था जिसमें ब्राह्मणों को मक्कार, क्षत्रियों को बलात्कारी और बनियों को ठग व बेईमान बताया जा रहा था।

यानी यह बताया जा रहा था कि सवर्ण और सामान्य जाति के लोग अत्याचार करते हैं, जबकि वस्तुस्थिति इस से ठीक उलट थी, अत्याचार गरीबों पर होता आया है फिर चाहें वो किसी भी जाति का हो।

आज़ादी के 70 सालों में वोट बैंक की खातिर कुछ पार्टियों ने जिस प्रकार सामान्य जातियों पर प्रहार किए, उन्हें बदनाम किया, उस देश मे सवर्णों के लिए इतना बड़ा समर्थन 323/3 कभी देखने को मिलेगा यह सोचा भी न था।

जिन सवर्णों को भड़का कर मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में काँग्रेस ने सत्ता हथियायी, सत्ता में आते ही उन्ही सवर्णों पर मुकदमे लाद दिए। इसके उलट जिन लोगों ने 2 अप्रैल 2018 को हिंसा की, जिन्होंने बेटियों बच्चियों के सरे राह, बीच चौराहे पर कपड़े फाड़े, सड़क पर उन से बलात्कार का प्रयास किया उनके मुकदमे वापस ले लिए गए। और ये सब सत्ता संभालने के सिर्फ 10 दिन के भीतर हो गया, यानी वोटबैंक की खातिर सामान्य जातियों पर आज तक अत्याचार हो रहा है।

ये कौन कर रहा है? क्या यह कृत्य sc st या रिज़र्व कैटेगरी के लोगों ने किया?

जवाब है – नहीं।

ऐसा सिर्फ भाड़े पर लाये गए कुछ चुनिंदा काँग्रेसी, कम्युनिस्ट ने किया। उद्देश्य सिर्फ एक ‘फूट डालो राज करो’।

सिर्फ सत्ता के लालच में पहले देश का बंटवारा किया, विश्व का सबसे बड़ा नरसंहार करवाया, फिर हिन्दू मुसलमानों को लड़वाया, फिर हिन्दू हिन्दू को लड़वाने के प्रयास किये गए, सवर्ण बनाम पिछड़ों को लड़वाने के लिए आरक्षण, तो कभी sc st एक्ट के सहारा लिया गया।

जब इस सब से भी बात नहीं बनी तो आदमी औरत में लड़ाई करवाने के उद्देश्य से कानून बनाये गए। यह सब सिर्फ एक नीयत से किया गया… हिन्दुओं में और भारतीयों में ‘फूट डालो और राज करो’ कि नीयत से, सत्ता के लिए देश में आग लगाने का काम किया गया।

ऐसे में 3 मतों के मुकाबले 323 के बहुमत के साथ सामान्य वर्ग के लिए 10% आरक्षण का बिल का पास होना किसी जादुई करिश्मे से कम नहीं है, और ये करिश्मा कर दिखाया मोदी ने।

ब्राह्मण भी गरीब होता है, क्षत्रिय भी गरीब होता है, वैश्य भी गरीब होता है, हिन्दू भी गरीब होता है, सामान्य जातियां भी गरीब होती हैं, मुसलमान और ईसाई भी गरीब होता है, भारतीय भी गरीब होता है, इस मर्म को समझा सिर्फ और सिर्फ एक व्यक्ति ने… जिसका नाम है नरेंद्र मोदी।

उन लोगों ने देश का बंटवारा किया, करोड़ों लोगों की हत्या हुई नरसंहार हुआ, उन लोगों ने मंदिर मस्जिद के नाम पर लोगों को बांटा, उन लोगों ने आरक्षण दिया हिन्दुओं को आपस में लड़वा दिया, सवर्ण लड़कों को आत्मदाह कर मरने पर मजबूर किया, उन लोगों ने प्रदेशों को बांटा तब हिंसा हुई सैकड़ों लोग मारे गए, उन लोगों ने जो भी काम किया सिर्फ सत्ता सिंहासन के लिए किया, लोग मरते हैं तो मरें, बस सत्ता की चाबी उनके पास रहनी चाहिए, मासूम भारतीयों की लाशों पर वे लोग अपनी सत्ता का सिंहासन जमाते रहे।

दूसरी तरफ नरेंद्र मोदी ने कल सामान्य गरीबों को आरक्षण दे कर न सिर्फ हिन्दुओं को एक करने का प्रयास किया है बल्कि सभी भारतीयों को एक करने का प्रयास किया है। हिन्दू, मुसलमान, ईसाई सब को एक दृष्टि से देखते हुए ‘सबका साथ सबका विकास’ को मूर्त रूप दिया है, किसी के प्रति कोई दुर्भावना उत्पन्न न हो ऐसा काम किया है।

इस से क्या फर्क पड़ेगा?

जिस प्रकार से आरक्षण की वजह से हम अपने ही भाइयों को हेय दृष्टि से देखने लगे थे, उन से नफरत करने लगे थे सिर्फ और सिर्फ इस एक आरक्षण की वजह से, वे अब हमारे बच्चों को भी मिलेगा। ऐसे में एक वर्ग विशेष के प्रति मन में जो एक खिन्नता थी वह खत्म होगी, एक दूसरे से नफरत के दौर खत्म होंगे। अब किसी के मन में यह नहीं आएगा कि उसका हक़ मारा जा रहा है।

यह बिल भारत की एकता अखंडता के प्रति मील का पत्थर साबित होगा। ये स्वर्णिम भविष्य की ओर पहला कदम है, जहाँ सभी भाईचारे से रहेंगे और भारत को विश्व गुरु बनाने में अपना पूर्ण योगदान देंगे।

सावधान! कुछ देशविरोधी तत्व एक बार फिर आपको भड़काने का प्रयास करेंगे, उन से सावधान रहना है और एक कदम आगे बढ़कर अपने वंचित समाज को गले लगा कर उन्हें अपने साथ कंधे से कंधा मिला कर चलाना है। देश की प्रगति में उनका बराबर सहयोग लेना है, कहीं कोई पीछे छूट जाए तो उसे सहारा दे कर अपने साथ ले कर चलना है।

हम सब भारतीय हैं, इस भावना के साथ हमें इस देश को आगे ले कर चलना है। ध्यान रहे, ये मौका दोबारा नहीं मिलेगा इसलिए सावधान रहिये और देश के लिए अपना सबकुछ न्योछावर करने के लिए तैयार रहिये।

देश को एक बार फिर एक सूत्र में पिरोने के भीमकाय प्रयास के लिए माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी आपका बहुत बहुत धन्यवाद, ये देश सदा आपका आभारी रहेगा।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY