आतंक के खिलाफ इतनी ज़्यादा सफल क्यों है मोदी सरकार?

मोदी सरकार में जिन 3 मंत्रियों से लकड़बग्घे और कट्टर झट्टर बहुत ज़्यादा खफा रहते हैं, वो हैं राजनाथ, जेटली और सुषमा स्वराज… इनको सोशल मीडिया में क्रमशः खाजनाथ, जेब लूटली और वीज़ा माता कहा जाता है और लानतें दी जाती हैं।

मोदी का एकमात्र मंत्री जिसकी सराहना की जाती है, वो हैं नितिन गडकरी… दरअसल लकड़बग्घे इतने जाहिल मूढ़मति हैं कि इनको सब कुछ सामने दिखना चाहिए… चूंकि सड़क बनती दीखती है और जल्दी बन जाती है, इसलिए इनको लगता है कि सिर्फ गडकरी काम कर रहा है, बाकी लोग घास छील रहे हैं…

सच्चाई ये है कि मोदी सरकार के सबसे कामयाब मंत्री राजनाथ सिंह, अरुण जेटली और सुषमा स्वराज ही रहे हैं। अलबत्ता इनका काम अंधे जाहिल आदमी को दिखेगा नहीं… बंदर अगर अदरक को पहचान नहीं पाता तो इसमें अदरक की गलती है या बंदर की?

कल NIA ने 16 शांतिदूत पकड़ लिए जो शांति मचाने की पूरी तैयारी में थे… बाकायदे Start Up चल रहा था… कुटीर उद्योग में कट्टा, बम, बंदूक और देसी Home Made राकेट लॉन्चर बनाये जा रहे थे…

सुरक्षा एजेंसियों ने धर दबोचा… उधर पंजाब में रिपोर्ट ये है कि अब तक खालिस्तानियों के 18 Module पकड़े जा चुके हैं… module मने 18 ऐसे अलग अलग group जो independently operate कर रहे थे, और पंजाब में कोई बड़ी वारदात करके खालिस्तानी आतंक को पुनर्जीवित करना चाहते थे…

ISI जी जान से लगी है, पर आज तक पंजाब में Network नहीं बना पाई… उधर कश्मीर में अल्लाह मियाँ हूरें नहीं दे पा रहे… इतनी डिमांड बढ़ गयी है जन्नत में हूरों की… रोज़ाना 4 – 6 टपका देती है JK police और Army साथ मिल के…

आपको क्या लगता है?

आतंक के खिलाफ इतनी ज्यादा सफलता क्यों है इस सरकार में?

Credit goes to Dobhal/ Doval… आपकी महारथ ही दुश्मन के घर मे infiltrate करने की है… दुश्मन के network में अपना आदमी घुसेड़ो… इससे दुश्मन के घर में भगदड़ मचती है… panic होता है… दुश्मन को यही नहीं पता कि कौन दोस्त है कौन दुश्मन… हर व्यक्ति संदिग्ध… कब कौन मुखबिरी कर दे, क्या पता?

कश्मीर में बीसियों ऐसे केस हो गए जहां लौंडे ने सुबह बंदूक उठायी, शाम को Army ने ठोक दिया…

UPA (काँग्रेस) के राज में जहां एक कश्मीरी आतंकी की Active life 4 – 5 साल होती थी, आजकल घट के 4 – 5 महीने रह गयी है… ऐसे कितने ही आतंकी हैं जो हथियार उठाने के 15 दिन के अंदर मार दिए गए या फिर 2 – 3 महीने में… ऐसी सफलता सिर्फ और सिर्फ सटीक मुखबिरी से मिलती है… और दुश्मन के घर में अपना मुखबिर बनाना डोभाल साब का specialization है…

पिछले 50 साल का रिकॉर्ड उठा के देख लीजिए… आंतरिक सुरक्षा का ऐसा शानदार record किसी अन्य गृह मंत्री का रहा है?

पिछले 4 साल में एक भी आतंकी हमला नहीं, एक भी दंगा नहीं… और लोग पूछते हैं हिंदुओं के लिए क्या किया मोदी ने? राजनाथ ने?

तुम्हारे पीछे एक बम टिक टिक टिक टिक कर रहा था… तुम्हारे पिछवाड़े के चीथड़े उड़ने से बचा लिया राजनाथ – मोदी ने…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY