2014 में वोट दे कर आजीवन गुलाम खरीदा था मोदी को, इतना भी नहीं करेगा क्या?

Modi Faqir
रे फकीरा मान जा...


देखिये मैं आप सबको पहले भी बता चुका हूँ आज फिर एक बार कान खोल कर सुन लीजिए, मैं कोई ऐसा वैसा सपोर्टर नहीं हूँ एकदम कट्टर झट्टर वाला सपोर्टर हूँ, बताए दे रहा हूँ।

अगर मोदी ने राम मंदिर नहीं बनाया तो 2019 में खांग्रेस को वोट दूँगा, अरे खांग्रेस ने रामभक्तों पर गोलियाँ चलवाईं थी उन्हें मौत के घाट उतारा था तो क्या हुआ? मोदी आज तक अयोध्या नहीं गया इसलिए मैं मोदी को वोट नहीं दूँगा, वैसे मैंने खुद ने कई बात मन्नत मांगी है कि फलाना काम हो जाये तो मैं फलां मंदिर जाऊंगा, हो सकता है मोदी ने भी ऐसी ही मन्नत मांगी हो कि निर्णय हो जाने पर जाऊंगा, पर मैं ठहरा कट्टर झट्टर मैं नहीं दूँगा वोट।

देखिए भैया हूँ तो मैं एकदम कट्टर झट्टर राष्ट्रवादी लेकिन मेरा लोन, बिजली का बिल तो माफ होना ही चाहिए, मुझे फ्री में राशन मिलना चाहिए, मेरे बच्चों को फ्री में पढ़ाओ, कंडोम से ले कर सेनेटरी नैपकिन तक फ्री में बाँटो, देश जाए तेल लेने मुझे अपने से मतलब है, मेरा फायदा होना चाहिए।

अगर मोदी ये भी नहीं कर सकते तो किस काम के, ठीक है अगर ₹400 वाला LED बल्ब 65 में बांट दिया और इज़्ज़त के साथ बिजली का बिल आधा हो गया तो इसमें कौन सी बड़ी बात है, बात तो तब होती जब 100 वाट का बल्ब जलाते और फिर बिल माफ होता, तब भिखारी की तरह लाइन में धक्के खाने का जो मज़ा है वो भला इस स्वाभिमान में कहाँ?

24 घण्टे बिजली, उज्वला योजना, PM आवास योजना इस सब से मुझे कुछ पैसे मिले क्या? नहीं चाहिए ऐसी राष्ट्रवादी सरकार हटाओ ऐसे मोदी को, खाली राष्ट्रवाद की घुट्टी से पेट नहीं भरता भैया, मैं न देने वाला 2019 में वोट।

यार ऐसा है मैं हूँ मिडिल क्लास, क्या फायदा पहुँचाया मोदी ने मिडिल क्लास को? बोलो बोलो tell tell? अरे इनकम टैक्स आधा कर दिया तो कौन सा एहसान कर दिया? अगर 3-4 लाख की सब्सिडी दे दी घर खरीदने में तो कौन सा एहसान कर दिया? होम लोन सस्ता किया तो कौन सी बड़ी बात है? 2014 में वोट दे कर आजीवन गुलाम खरीदा था मोदी को इतना भी नही करेगा क्या? गरीबों को फ्री में घर मिल रहे हैं हमें मिले क्या? 2019 में बताऊंगा, आने दो चुनाव ।

भैया मैं हूँ एकदम पक्का ब्राह्मण 20 बिस्वा कान्यकुब्ज मने सबसे श्रेष्ठ (सभी ब्राह्मण ऐसा दावा कर सकते हैं, और आपस मे तलवारें भांज सकते हैं, यही तो करते आये हैं हज़ारों साल से) हम ब्राह्मणों के साथ के बहुत अत्याचार हुआ, आरक्षण, SC ST एक्ट, माई का लाल, इसलिए हरा दिया हमने, सरकार बदलते ही आरक्षण खत्म हो गया है, SC ST एक्ट खत्म हो गया है, हमने बदला ले लिया, ये बात अलग है कि राष्ट्रवादी सरकार में बिना जांच गिरफ्तारी पर खुद CM ने रोक लगाई थी जो कि अब हटा ली गयी है और सीधे गिरफ्तारी हो रही है, भले ही जेल चले जाएं पर बदला तो ले ही लिया, 6 महीने पुराने एक केस में आज ही पड़ोसी का बेटा अरेस्ट हुआ मैंने कहा “अपन ने बदला ले लिया” ।

देखो बाबूजी मैं हूँ ग्रामीण क्षेत्र से मुझे बस अपने फायदे से मतलब है, जो कर्जमाफी करेगा उसे ही वोट दूँगा, आपने नही किया इसलिए आपको उखाड़ फेंका, अरे ये बात अलग है कि आपने फ्री गैस कनेक्शन दिया, बिजली पहुँचाई जिसके बिना खड़ी फसल बर्बाद हो जाती थी, आपने फ्री में घर दिया लेकिन इस सब से मेरा पेट नही भरता, अरे कर्ज़ और माफ कर देते तो क्या चला जाता, अब भले यूरिया, खाद, DAP नही मिल रहा हो मुझे लाठी डंडे पड़ रहे हो, कर्जमाफी के नाम पर मुझे उल्लू बनाया गया हो पर मैंने अपनी ताकत तो दिखा ही दी ना?

अब सबसे ज़रूरी बात, मैं हूँ एक नंबर का लिखाड़ बोले तो मठाधीश बोले तो दद्दा etc., मैं जैसे कहूँगा वैसे ही चलना होगा मोदी को वर्ना ठीक कर दूंगा, 4.5 साल हो गए लिखते हुए एक चवन्नी नहीं मिली, आज तक मोदी ने लंच डिनर पर नही बुलाया, ऐसी तौहीन? अब बताता हूँ मोदी को, अरे इस से तो खांग्रेस अच्छी, प्रति पोस्ट और महीने का दोनों पैकेज दे रही है, जो पसंद आये चुन लो, भाड़ में जाये राष्ट्रवाद, 2 रुपये का धनिया नही मिलता इस राष्ट्रवाद से, मुझे अपना घर देखना है भैया, मुझे तो जहाँ से पैसा मिलेगा उसकी बजाऊंगा, वैसे एक बात बताऊँ मैं तो यही चाहता हूँ की मोदी हार जाए, बस आपके सामने रावण की तरह साधु का चोला ओढ़े खड़ा हूँ, हूँ तो खान्ग्रेसी पर आपके सामने राष्ट्रवादी बन कर खड़ा हूँ, आपको कंफ्यूज कर रहा हूँ, मूर्ख बना रहा हूँ ।

अब आपको समझ मे आया मैं कितना ताकतवर हूँ, कितना बड़ा पहलवान हूँ, बल्लम हूँ, पटक कर रख दिया और चित कर के रख दूँगा सबको 2019 में, क्योकि मुझे अपना फायदा अपनी हेकड़ी की छाप चाहिए, पर पता नही क्यो जब से आज सुबह का न्यूज़ पेपर पढ़ा है दस्त हैं कि रुकने का नाम ही नही ले रहे, अखबार में हेडलाइंस छपी है “ISIS आतंकियों द्वारा देश को दहलाने की साजिश” मेरे बीवी बच्चे स्कूल, मॉल, बाज़ार जाते हैं, यह सोच सोच कर दस्त हुए जा रहे हैं, हूँ तो मैं बहुत बड़ा पहलवान पर सारी हेकड़ी निकल गयी है सोच रहा हूँ मोदी को ही वोट दे दूं, क्योकि जिस सरोजनी मार्किट में मैं हमेशा जाता था वही धनतेरस को धमाके हुए थे, कई लोग मारे गए थे, किस्मत से मैं मेरा परिवार वहां नही था, आये दिन क्या होली क्या दीवाली सब पर बम फटते थे, अरे भैया आतंकवादी हमारी खुशी में शामिल हो कर मारे खुशी के बम फोड़ते थे, एक तो ये आतंकवादी भी मूर्ख हैं, कोई ऐसा बम बनाओ जिसके शार्पनेल शरीर मे घुसने से पहले पूछा करें राष्ट्रवादी या गद्दार? और राष्ट्रवादी सुनते ही शरीर मे घुस जाया करें, बाकियों को बक्श दें, लेकिन जब तक ऐसा नही होता तब तक तो अपने अहम को त्याग कर मोदी को ही वोट देने में भलाई दिखती है, नेताओं का कुछ न बिगड़ना, और मुए मोदी का तो कुछ भी नही बिगड़ना, झोला उठा कर चल देगा फ़क़ीर कहीं का, मारे तो मेरे बीवी बच्चे जाएंगे, पर मन तय नही कर पा रहा, एक तरफ सबकुछ फ्री का है दूसरी तरफ अपनी और परिवार वालो की जान की हिफाज़त है, क्या करूँ कुछ समझ नही आ रहा बड़ा कंफ्यूज हूँ, बड़ा लालची जो हूँ, इस मुए मोदी ने फंसा दिया, और हां अगर मोदी को चुनता भी हूँ तब भी इसमे मेरा ही लालच है, अपने परिवार की हिफाज़त का लालच, क्या करूँ लालची जो हूँ, अरे जान बचेगी तब न SC ST एक्ट लगेगा तब न आरक्षण का नुकसान दिखेगा, जान बचेगी तब न राम मंदिर जा पाऊंगा, जान बचेगी तब न फ्री का राशन बिजली का बिल वगैरह माफ करवा पाऊंगा, जान बचेगी तब न इंकॉमेटैक्स सस्ते होमलोन सब्सिडी का फायदा ले पाऊंगा, जान बचेगी तब न कर्ज़ माफ होगा, जान बचेगी तब न लिखने के पैसे मिलेंगे, भैया मुझे तो इस वक्त जान के लाले पड़े हैं, समझ आ रहा है जान सबसे ज़्यादा ज़रूरी है ।

खबरदार जो किसी ने इस पोस्ट को किसी व्यक्ति या अपने ऊपर लिया तो, और हाँ मेरी तरह अगर किसी और के दस्त भी न रुक रहे हों तो ज़ोर से मोदी मोदी का नारा लगा देना नई ताकत आ जायेगी और दस्त तत्काल रुक जाएंगे, एक ही साइड इफ़ेक्ट है आप राष्ट्रवादी बन सकते हैं ।

आपका अपना भ्रष्ट लालची भाई

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY