आपको ये जानना चाहिए… क्या ये समझते हैं आप?

मेरे बहुत से व्यापारी मित्र हैं जो हमेशा धंधे में मंदे का रोना रोते रहते हैं। हाय मंदी… हाय मंदी…

पिछले साल मैं उदयन के बच्चों के लिये स्टेशनरी लेने एक बड़ी दूकान पर गया। दुकानदार मेरा परिचित था। मैंने पूछा क्या हाल है बिजनस का?

भोत खराब… बुरा हाल है…

मैंने पूछा… क्या हुआ?, जवाब मिला – नोटबन्दी और GST ने सत्यानाश कर दिया!

मैंने पूछा… क्यों? नोटबन्दी और GST लग जाने के बाद बच्चों ने स्कूल में पढ़ना बंद कर दिया क्या? पहले जिन कक्षाओं में 35 – 40 या 50 बच्चे होते थे अब घट के 20 रह गए क्या?

क्या नोटबन्दी के बच्चे पेंसिल नहीं घिसते? अब बच्चे अपने Sharpener से pencil छील के आधी नहीं कर देते क्या? क्या अब बच्चों ने अपनी कॉपी के पन्ने फाड़ के हवाईजहाज उड़ाना बंद कर दिया? किस स्टेशनरी आइटम की मांग या बिक्री घट गयी?

नहीं… बिक्री तो किसी आइटम की नहीं घटी पर अब हर आइटम का हिसाब रखना पड़ता है… पक्के बिल पर माल मंगाना पड़ रहा है…

देश के युवाओं को और व्यापारियों को ये जान लेना चाहिए कि दुनिया बहुत तेज़ी से बदल रही है।

Technology पुराने सिस्टम को disrupt कर रही है, यानी बदल रही है।

AI, बोले तो Artificial Intelligence, EV बोले तो Electric Vehicle यानी कि Battery से चलने वाली गाड़ी, और AV यानी की Autonomous Vehicle यानी की Driverless Vehicle यानि कि बिना ड्राइवर के अपने आप चलने वाली गाड़ियाँ… और आपके हाथ में मौजूद स्मार्टफोन, पैसे का Digital लेनदेन…

ये पांचों Technologies दुनिया में आ चुकी हैं… अगले 3 साल में ये पांचों technology मिल के दुनिया को बदल देंगी… जी हाँ… सिर्फ 3 साल में…

अकेले चीन में बैटरी चलित विभिन्न किस्म के वाहन जिनमे बस, truck से ले के Car, स्कूटर, साईकल, E रिक्शा, auto रिक्शा, delivery Van बनाने के लिए 300 Mega Factories लग चुकी हैं… पूरी दुनिया में Lithium – Ion batteries बनाने की 50 से ज़्यादा Mega Factories काम कर रही हैं।

भारत में भी Zee News वाले सुभाष चंद्रा और Mahindra & Mahindra लिथियम आयन बैटरी का उत्पादन शुरू करने जा रहे हैं।

अगले 3 साल में हमारी सड़कों पर करोड़ो EVs होंगी।

मानव रहित वाहन… यानी कि AV बोले तो Autonomous Vehicle मने ड्राइवर विहीन गाड़ियाँ बन के तैयार हैं और बहुत से देशों में तो चलने लगी हैं… इसमें बहुत ज़्यादा सरकारी Regulation हैं क्योंकि सुरक्षा का तकाज़ा है, पर अब ज़्यादा शहरों में वहां का प्रशासन इन्हें allow कर रहा है…

एक अनुमान है कि अगले 3 से 5 साल में, दुनिया के हर शहर में Autonomous Electric Vehicles चलने लगेंगे।

जब LI बैटरी का और EV का mass production होगा तो इनकी कीमत भी 100 गुना या 1000 गुना तक कम हो जाएगी। AV में लगने वाला LIDAR नामक उपकरण जो आज से 5 साल पहले 70,000 डॉलर का था, आज 250 डॉलर में बिक रहा है और अगले 3 साल में इसकी कीमत 5 डॉलर हो जाएगी।

छोटे छोटे किराना स्टोर के पास छोटी E रिक्शा Type delivery Vans का और Drones का fleet होगा जो आपके लिए एक किलो अरहर की दाल का छोटा सा order भी 5 मिनट में आपके दरवाजे पर डिलीवर कर देगा… और आपके व्यापार में ये टेक्नोलॉजी disruption अगले 50 साल में नहीं, बल्कि अगले 3 से 5 साल में होने जा रहा है…

क्या आप इसके लिए तैयार हैं? दुनिया बदल रही है… क्या आप इसके लिए तैयार हैं?

अगले 3 से 5 साल में आपका बिजनस, आपका काम, या तो खत्म हो जाएगा या बदल जाएगा… क्या आप इसके लिए तैयार हैं?

आप जिस भी फील्ड में हैं, जो भी काम करते हैं, उसमे आने वाले 3 से 5 साल में क्या बदलाव आने वाले हैं ये जानते हैं आप? या आपने जानने की कोशिश की?

आपको ये जानना चाहिए… ये समझते हैं आप?

मेरे एक मित्र जो स्कूल मालिक हैं, वो एक नया स्कूल खोलने की योजना बना रहे हैं… मैंने उनसे कहा… एकदम्मे cute हो का बे? नए की तो बात छोड़ो… ये जो चल रहा है, इसे कैसे बचाना है ये सोचो… इसी पर ताला लगने वाला है क्योंकि शिक्षा Digital हो गयी है…

आज आपका बच्चा यदि 10th क्लास में है, तो आज से 10 साल बाद, यानी 25 साल की उम्र में वो जिस फील्ड में काम करेगा उस फील्ड का तो अभी आविष्कार ही नहीं हुआ… सो आप अभी से कैसे तय कर सकते हैं कि आपका बच्चा बड़ा हो के क्या बनेगा?

व्यापार में मंदी और बेरोज़गारी का रोना मत रोइये… ये देखिये कि व्यापार और रोज़गार गया कहां, किस स्वरूप में है, बदल रहा है तो कैसे…

ये जान लीजिये कि आप 21वीं सदी में हैं जहां दुनिया हर 3 साल में बदल जाती है… 3 साल बाद क्या करोगे ये अभी से सोच लो…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY