दिनभर के प्रमुख समाचार एक साथ

मुख्य समाचार :

  • प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने असम में बोगीबील में ब्रह्मपुत्र नदी पर बने देश के सबसे लम्‍बे रेल-सड़क पुल का उद्घाटन किया। कहा-निर्धारित समय में विकास परियोजनाओं का पूरा होना अब एक वास्‍तविकता बन गया है।
  • पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद के नेतृत्‍व में राष्‍ट्र ने भावभीनी श्रद्धाजंलि दी। दिवंगत नेता की समाधि राष्‍ट्र को समर्पित की गई।
  • छत्‍तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में नये मंत्रियों ने पद की शपथ ली।
  • मौसम विभाग ने उत्‍तर, पश्चिमी और मध्‍य भारत में अगले तीन-चार दिन शीतलहर जारी रहने का अनुमान व्‍यक्‍त किया।
  • दुनियाभर में क्रिसमस की धूम।
  • भारत और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच तीसरा क्रिकेट टेस्‍ट मैच कल से मेलबर्न में।

समाचार विस्तार से :

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज असम में ब्रह्मपुत्र नदी पर बने देश के सबसे लम्‍बे रेल-सड़क पुल बोगीबील का उद्घाटन किया। ब्रह्मपुत्र नदी के दक्षिणी तट पर बना करीब पांच किलोमीटर लम्‍बा यह एक डबल-डेकर पुल है।

प्रधानमंत्री ने नए पुल से डिब्रूगढ़ से धीमाजी तक की यात्रा भी की। उन्‍होंने पुल पर चलने वाली पहली यात्री रेलगाड़ी तिनसुकिया-नाहरलगुन इंटरसिटी एक्‍सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर असम के राज्‍यपाल जगदीश मुखी और मुख्‍यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी मौजूद थे।

प्रधानमंत्री ने बाद में धेमाजी जिले में कारेंग चपोरी में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पूर्वोत्‍तर के विकास के लिए क्षेत्र में ढांचागत विकास पर अधिक जोर दिया गया है। श्री मोदी ने कहा कि इस क्षेत्र में 70 हजार किलोमीटर के राष्‍ट्रीय राजमार्गों का निर्माण किया जा रहा है।

उन्‍होंने कहा कि अगले दो तीन वर्षों में पूर्वोत्‍तर के राज्‍यों की राजधानियों को आपस में जोड़ने का लक्ष्‍य रखा गया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि एन डी ए सरकार ने परियोजनाओं के अमल में टाल-मटोल वाली कार्य-संस्‍कृति को बदल कर रख दिया है। उन्‍होंने कहा कि परियोजनाओं को अब निश्चित समय-सीमा में पूरा किया जा रहा है।

आज सुशासन दिवस पर मैं गर्व से कह सकता हूं कि लटकाने-भटकाने वाली उस पुरानी कार्य संस्कृति को हमने पूरी तरह बदल दिया है। आज तय समय पर तय लागत में ही प्रोजेक्ट पूरा करने पर जोर दिया जा रहा है। अब समय सीमा सिर्फ कागज में लिखने की बात भर नहीं रह गई बल्कि सरकारी काम-काज का संस्कार बन रही है।

श्री मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार काले-धन और भ्रष्‍टाचार के खिलाफ लड़ाई जारी रखे हुए है।

श्री मोदी ने कहा कि यह पुल सैनिक साजो-सामान के परिवहन में अहम भूमिका निभाएगा, जिससे देश की रक्षा शक्ति मजबूत होगी। उन्होंने इस पुल को पूर्वोत्तर के लिए जीवन रेखा बताया।

ये सिर्फ एक ब्रिज नहीं है बल्कि इस क्षेत्र के लाखों लोगों के जीवन को जोड़ने वाली लाइफ लाइन है। इससे असम और अरूणाचल के बीच की दूरी सिमट गई है। ईटानगर से डिब्रूगढ़ की रेल यात्रा अब दो सौ किलोमीटर से भी कम रह गई है। ट्रेन से जिस सफर में पहले लगभग चौबीस घंटे लग जाते थे, अब वही सफर सिर्फ पांच-छह घंटे का रह गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर पुल का उद्घाटन उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि है क्‍योंकि उन्‍होंने ही इस परियोजना का शुभारंभ किया था।

ब्रह्मपुत्र नदी पर बना यह पुल सामरिक दृष्टि से महत्‍वपूर्ण है।

बोगीबील पुल पूर्वोत्तर क्षेत्र के लोगों के लिए जीवन रेखा साबित होगी। डबल लाइन ट्रैक और तीन लेन सड़क से निर्मित बोगीबील पुल असम और अरूणाचल के पूर्वी क्षेत्र में ब्रह्मपुत्र के उत्तर और दक्षिण तट को जोड़ेगा। इस पुल के निर्माण से पूर्वी क्षेत्र में सुरक्षाबलों और उनके उपकरणों के तेजी से आवागमन में सुविधा होगी।

आज उद्घाटन के बाद हजारों लोगों का पुल के जरिए धेमाजी और डिब्रूगढ़ के बीच आना-जाना हुआ जो यहां के लोगों के लिए वाकई सुखद अनुभव है।


पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्‍न अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती आज सुशासन दिवस के रूप में मनाई गई। देशभर में इस अवसर पर कई कार्यक्रम आयोजित किए गए।

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप-राष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

श्री कोविंद ने कहा कि स्‍वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी सही अर्थों में राजनेता थे। उन्‍होंने कहा कि वाजपेयी जी हमेशा देश के लोगों के दिलों-दिमाग में बसे रहेंगे।

श्री नायडू ने एक ट्वीट में कहा कि राष्‍ट्र अटल जी के अमूल्‍य योगदान के लिए सदैव ही उनका ऋणी रहेगा। उन्‍होंने कहा कि अटल जी एक मंजे हुए सांसद, अतुलनीय प्रशासक, दूरदर्शी, राजनेता, महान विद्वान, ओजस्‍वी वक्‍ता, सर्वप्रिय नेता और इन सबसे परे एक महान इंसान थे जो सद्भाव और संवाद में विश्‍वास रखते थे। उन्‍होंने गरिमापूर्ण राजनीति का मार्ग अपनाया था।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने भी अटल बिहारी वाजपेयी के जन्‍म-दिवस पर उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित की और अटल जी के सपनों का भारत बनाने के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराई।

सूचना और प्रसारण मंत्री कर्नल राज्‍यवर्द्धन राठौड़ ने कहा कि अटल जी सभी के लिए प्रेरणा के स्रोत थे। वे सबको साथ लेकर भारत को एक महान राष्‍ट्र बनाना चाहते थे।

आज सवेरे पूर्व प्रधानमंत्री की समाधि – सदैव अटल को राष्‍ट्र को समर्पित किया गया।

विविधता में एकता का महत्व दर्शाने के लिए इस समाधि के निर्माण में देश के विभिन्न हिस्‍सों से लाए गए पत्थरों का इस्तेमाल किया गया है। मुख्‍य समाधि नौ चौकोर ब्लॉकों के बीच में दीपक की आकृति में बनी है। नौ की संख्‍या का बड़ा महत्व है जो नवरस, नवरात्रि और नवग्रहों को भी दर्शाती है। नौ वर्गों को कमल की पंखुडि़यों के रूप में संजोया गया है।

इस समाधि के निर्माण में एक भी पेड़ नहीं काटा गया है। समाधि का निर्माण केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग ने दस करोड़ रुपये की लागत से किया है और निर्माण का पूरा खर्च अटल स्मृति न्यास समिति ने उठाया है।


केन्‍द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह और उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने आज लखनऊ में अटल जी को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर श्री सिंह ने एक अरब 60 करोड़ रुपये से अधिक लागत की कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्‍यास किया।


छत्‍तीसगढ़ में नौ दिन पुराने भूपेश बघेल मंत्रिमण्‍डल में आज नौ और मंत्री शामिल किये गये। राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल ने रायपुर के पुलिस परेड़ ग्राउंड में आयोजित समारोह में नये मंत्रियों को पद की शपथ दिलाई।

आज नौ मंत्रियों को शामिल करने के साथ ही छत्तीसगढ़ के मंत्रिमंडल में सदस्यों की संख्या बढ़कर 12 हो गई है। हाल में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस द्वारा विजय हासिल करने के बाद बने छत्तीसगढ़ के इस नये मंत्रिमंडल में तीन सदस्य अनुसूचित जनजाति से, दो सदस्य अनुसूचित जाति से जबकि एक सदस्य अल्पसंख्यक वर्ग से है। मंत्रिमंडल में एक महिला विधायक को भी शामिल किया गया है।


उधर, मध्‍यप्रदेश के मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने भी आज अपने मंत्रिमंडल का विस्‍तार किया। राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल ने भोपाल में राजभवन में इन विधायकों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी। दो महिलाओं सहित 28 मंत्रियों को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया।

कुल 28 मंत्रियों में से 15 पहली बार मंत्री बने हैं। नये मंत्रिमंडल में सात युवाओं को भी शामिल किया गया है। इनमें पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का बेटा और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव के भाई भी शामिल हैं। इसके अलावा विजयलक्ष्मी साधो और इमरती देवी मंत्रिमंडल में महिलाओं का प्रतिनिधित्व करेंगीं।

खास बात यह है कि बसपा और सपा के किसी भी विधायक को मंत्री नहीं बनाया गया है जबकि कांग्रेस ने इन दलों के समर्थन से ही अपनी सरकार बनाई है। चार निर्दलीय विधायकों में से भी केवल एक को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। नवनिर्वाचित मध्य प्रदेश विधानसभा का पहला सत्र सात जनवरी से शुरू हो रहा है।


वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि कृषि क्षेत्र को मजबूत बनाना सरकार के सामने लंबे समय से एक चुनौती बनी हुई है। भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था की स्थिति के बारे में आकाशवाणी के साथ विशेष भेंटवार्ता में उन्‍होंने कहा कि इन चुनौतियों से निपटने का एक तरीका किसानों को आमदनी के और अधिक साधन मुहैया कराना हो सकता है।

उन्‍होंने कहा कि सिंचाई जैसे ग्रामीण बुनियादी ढांचे में और अधिक निवेश करने की जरूरत है। श्री जेटली ने कहा कि कृषि उपज की खरीद के प्रबंध या उनकी आमदनी बढ़ाने के उपाय भी किए जाने चाहिएं।

Policy mechanisms have to be permanant to enable the farmers to earn more and whatever support has to be given to them has to be given both in the quality of life and agriculture by the state itself, that is to make life easier and make agriculture remunerative.”


उत्‍तर, पश्चिम और मध्‍य भारत में चल रही शीतलहर के अगले तीन- चार दिन तक जारी रहने की संभावना है। मौसम विभाग के अधिकारी चरण सिंह ने आकाशवाणी को बताया कि पंजाब, राजस्‍थान और हरियाणा में शीतलहर की स्थिति बनी रहेगी।

इसके अलावा, यह मध्‍य प्रदेश, छत्‍तीसगढ़, सौराष्‍ट्र और कच्‍छ के इलाकों तक फैल सकती है। उन्‍होंने कहा इन क्षेत्रों में न्‍यूनतम तापमान सामान्‍य से नीचे बना रहेगा। श्री सिंह ने आने वाले दिनों में कोहरा घाए रहने की भी आशंका व्यक्त की है।

श्री सिंह ने कहा कि पश्चिमी विक्षोम सक्रिय नहीं है, जिससे उत्‍तर और पश्चिमी भारत में अगले चार से पांच दिन में वर्षा की कोई संभावना नहीं है।


दुनियाभर में आज क्रिसमस का त्योहार पूरे उत्साह और हर्षोल्लास से मनाया जा रहा है। इसाई समुदाय के लोग इस दिन को ईसा मसीह के जन्‍मदिवस के रूप में मनाते हैं। इस अवसर पर गिरजाघरों में विशेष प्रार्थना सभाएं आयोजित की जा रही हैं।


गोवा में लोग बड़े उत्साह के साथ विभिन्न कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे हैं। गोवा में भी क्रिसमस की धूम रही। इस अवसर पर लोगों ने विशेष व्यंजन भी तैयार किए। स्थानीय लोगों के साथ विदेशी पर्यटकों ने भी गिरिजाघरों में आयोजित प्रार्थनासभा में भाग लिया। गोवा राज्य कला और संस्कृति महानिदेशालय ने इस अवसर पर प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जिसमें लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।


मेघालय में क्रिसमस का उत्साह चरम पर है। मेघालय में क्रिसमस के मौके पर उत्साह और उमंग का माहौल है। आधी रात होते ही लोग खुशी से झूम उठे। कैरोल गीत गाकर प्रभु ईशु के आगमन का स्वागत किया गया। राजधानी शिलंग में स्थित कैथेड्रल चर्च में विशेष प्रार्थना सभा आयोजित की गई। जगह-जगह क्रिसमस ट्री लगाए गए हैं।

क्रिसमस के पारम्परिक गीतों जिंगल बेल ओ होली नाइट और सांता क्लॉज इज़ कमिंग टू टाउन की धून के बीच सफेद दाढ़ी वाले और लाल कपड़े पहने सांता क्लॉज जगह-जगह बच्चों को उपहार बांटते रहे। धुंध भरे सर्द मौसम में भी लोगों का जोश बना हुआ है। समीर वर्मा, आकाशवाणी समाचार, शिलंग।


मेलबर्न में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा क्रिकेट टेस्‍ट मैच कल से शुरू होगा। लोकेश राहुल और मुरली विजय की जगह मयंक अग्रवाल और रोहित शर्मा को अंतिम एकादश में शामिल किया गया है। उमेश यादव की जगह ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा की भी टीम में वापसी हुई है।

कल के मैच में भारत मयंक अग्रवाल और हनुमा विहारी की नई ओपनिंग जोड़ी के साथ मैदान पर उतरेगा। मयंक का यह आरंभिक टेस्‍ट मैच होगा। दोनों टीम चार मैचों की श्रृंखला में 1-1 की बराबरी पर हैं।

स्रोत : http://newsonair.com/

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY