युद्ध से जीवित निकले, तो जो बचेगा वही देगा सारे इतिहास को सार्थकता

मेरठ में मेरी रेजिमेंट की मेस बहुत ही आलीशान थी। घुसते ही दरवाज़े पर एक शानदार बाघ… सचमुच के बाघ की खाल को अंदर से कुछ भर के सजाया गया था। अंदर दीवालों पर बाघ, तेंदुए और हिरण के सर सजे हुए थे। न जाने कितने ही चाँदी की ट्रॉफियाँ और शील्ड सजे हुए थे, … Continue reading युद्ध से जीवित निकले, तो जो बचेगा वही देगा सारे इतिहास को सार्थकता