देशभक्ति यदि ज़हर है तो इसे हवाओं में इतना घोलें कि घुट जाए देशद्रोहियों का दम

2016 में एक कभी न भूलने वाली घटना हुई थी। उरी में नींद में सोये हमारे निहत्थे 19 जवानों को आतंकवादियों ने मार दिया था

पूरा देश गुस्से से उबलने लगा… मोदी जी की छाती नापी जाने लगी… विरोधियों के चेहरे पर जवानों की मौत से, दर्द कम मोदी को घेरने को मिले मौके की खुशी ज्यादा झलक रही थी।

लेकिन कौन जानता था कि वह बूढा शेर क्या ठाने बैठा है… भारत के सुरक्षा सलाहकार के मन में क्या चल रहा है… भारतीय सेना क्या तैयारी कर रही है…

और अचानक एक रोज सुबह सेना प्रेस कांफ्रेंस कर खबर देती है कि भारतीय सैनिकों ने बीती रात पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर 100 से ज्यादा आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया है।

देश से लेकर विदेश तक इस घटना से हिल गया। इसके बाद जहाँ राष्ट्रवादियों के मन में खुशी की लहर दौड़ गयी, वहीं मोदी विरोध में देश विरोधी हो चुके हरामखोरों का गला सूख गया।

पाकिस्तान से ज्यादा सदमा तो मोदी विरोधियों को लगा था। केजरीवाल खुलेआम सबूत माँग रहा था… काँग्रेस के संजय निरूपम इसे फर्जी सर्जिकल स्ट्राइक बता रहे थे… विपक्ष जो कल तक मोदी को उरी हमले के लिये कोस रही थी वह आज केवल सेना को औपचारिक बधाई देते हुयी दिखी… हमारे तरफ के थकेले फूफा लोग (छद्म राष्ट्रवादी) निर्लज्ज होकर “हमारे दबाव की वजह से यह हुआ” कहकर अपनी पीठ ठोंकते हुये नजर आये।

खैर… उस शौर्यगाथा पर एक फिल्म आ गयी है…

URI : The surgical strike

ट्रेलर बहुत ही धांसू है… आज के दौर के एक शानदार युवा कलाकार विक्की कौशल लीड रोल में है… अजीत डोवाल हमारे परेश रावल जी बने हुये हैं… यामी गौतम भी हैं।

लेकिन जिस प्रकार जब सर्जिकल स्ट्राइक हुई थी तब कुछ लोग गहरे सदमे में चले गये थे, ठीक वैसा ही दृश्य इस फिल्म के ट्रेलर के बाद से भी नजर आ रहा है… कुख्यात वामपंथी पोर्टल The Wire इसे Toxic Hyper-Nationalism बता रहा है… अर्थात ज़हरीला राष्ट्रवाद… उनका कहना है कि इस तरह की फिल्में हमारे देश और सेना के प्रति जो प्रेम है उसे कैश करने के लिये बनायी जाती है।

साथ ही उन्हें यह डर भी सता रहा है कि यह फिल्म भाजपा का प्रचार करेगी… उन्हें फिल्म के डायलॉग से भी सख्त एतराज़ है… जिसमें यह कहा जा रहा है कि “यह नया हिन्दुस्तान है, घर में घुस कर मारता है”… उन्हें लगता है कि यह फिल्म खून खराबे को बढावा देगी… “उन्हें कश्मीर चाहिये और हमें उनके सिर”… ऐसे डायलॉग उन्हें भारतीय सेना के जवानों की हिंसक मानसिकता दर्शाती लग रही है।

The Wire का हाथ बँटाता ऐसा ही एक और पोर्टल Scroll भी Surgical Strike को So Called Surgical strike कह रहा है…

मोदी विरोध में इनकी नफरत कब मोदी… भाजपा… संघ से होते हुये हिन्दूओं, हिन्दू- प्रतीकों, मंदिरों, देश और सेना से नफरत में बदल गयी पता ही नहीं चला… सेना का शौर्य इन्हें ज़हर लगने लगा…

शायद मोदी जी को इनके भीतर के ज़हर का अंदाज़ था इसलिये रक्षा मंत्री से बयान न दिलवाकर सेना से बयान दिलवाया था… यह सोच कर कि शायद इन लोगों के मन में सेना के लिये तो थोड़ी बहुत इज्जत बची होगी… कम से कम यह सेना पर तो उंगली नहीं उठायेंगे। …पर अफसोस… अब इन्हें सेना भी संघी नज़र आती है।

खैर… मेरा निवेदन है कि इस फिल्म को सपरिवार देखने जायें… यारों दोस्तों के बीच भी इसका प्रचार करें… यह फिल्म सफल होनी चाहिये… अगर देशभक्ति ज़हर है तो इस ज़हर को हवा में और घोला जाये… जिसमें देशद्रोहियों का दम घुटे… और वह मर जायें …

जय हिंद…

सीमा का प्रत्यक्ष युद्ध उस युद्ध के आगे कुछ नहीं, जिससे वर्षों से हारते हुए जूझ रहे हैं हम!

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY