भारत के स्वर्णिम अतीत और धूसर वर्तमान का सच

चाहे राफ़ेल आयात मुद्दे पर भारत का मौन हो या बोफ़ोर्स के धमाके में सत्ता का नाश, हल्दी के पेटेण्ट के लिये लड़ा जाने वाला कानूनी पचड़ा हो कि बासमती चावल की सौतेली बहनों के मार्केट में आने से असली बासमती चावल की खुशबू का दर्दनाक अन्त… हर हाल में हम मजबूर, लाचार, पिछड़े और … Continue reading भारत के स्वर्णिम अतीत और धूसर वर्तमान का सच