राहुल G, ये बेरोज़गारी के कारण आत्महत्या नहीं, ‘खुशकुदी’ थी

कल अपने राहुल G अलवर – राजस्थान गए थे वोट मांगने।

राहुल G की ज़िंदगी में बहुत कनफ्यूज़न है। राहुल G समझते हैं कि हिन्दोस्तान की पब्लिक cute है… उधर पब्लिक समझती है कि राहुल बाबा cute हैं…

पिछले दिनों अलवर में एक suicide pact के तहत 4 युवाओं ने ‘खुशकुदी’ कर ली… खुशकुदी कहते हैं जब आदमी खुशी खुशी कूद जाए मौत के मुंह में…

सो कल अलवर में वोट मांगते हुए अपने राहुल G उन चार लड़कों की खुशकुदी को justify करते हुए मोदी सरकार को कठघरे में खड़ा कर रहे थे… उन्होंने कहा, मोदी जी ने नौकरी नहीं दी इसलिए उन 4 युवाओं ने खुदकुशी कर ली…

अब आइए ज़रा इस आरोप की विवेचना कर ली जाए।

प्रारंभिक जांच में पुलिस ने पता लगाया है कि 6 दोस्त रेलवे ट्रैक पर बैठ के सिगरेट फूंक रहे थे। एक बोला यार ज़िंदगी झंड है… क्या फायदा ऐसी ज़िंदगी से… चलो खुदकुशी कर लें।

ट्रेन आयी, 2 मुकर गए, 4 कूद गए।

जो चार कूदे उनमें –

1. ऋतु राज मीणा… आयु 17 बरस… BA 1st year का student… इनके पिता जी राजस्थान पुलिस में constable हैं। 45 हज़ार रूपए salary है। ऊपर नीचे आगे पीछे से भी कुछ बना ही लेते होंगे। अब 17 बरस के लड़के को मोदी जी क्या नौकरी दे दें, ये तो राहुल G ही बता सकते हैं।

2. अभिषेक मीणा… उम्र 18 बरस… student BA 2nd year… जब ट्रेन एकदम नज़दीक आ गयी तो इसने भागने की कोशिश की पर तब तक चपेट में आ गया… गंभीर रूप से घायल इसकी मौत अस्पताल में हुई। 18 बरस के लड़के, student कब से नौकरी की चिंता में मरने लगे ये तो राहुल G ही बता सकते है। और 2nd year के स्टूडेंट को मोदी जी कौन सी नौकरी दें ये भी बताना चैये राहुल G को।

3. तीसरे लड़के का नाम सत्यनारायण मीणा था। 22 वर्षीय सत्यनारायण ने 2016 में BA पास किया था और पिछले एक साल से वो नौकरी के लिए प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा था। कुछ दिन पहले ही उसने नई Bike खरीदी थी और उसने अपने दोस्तों को इसी खुशी में Dinner कराने का वादा किया था।

4. चौथा था मनोज कुमार मीणा… आयु 24 वर्ष… इसने 2014 में BA किया था और ये भी नौकरी के लिए प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा था। पिछले साल इसने कुल 7 Exam दिए और सबमें फेल हो गया। फिर इसने खुदकुशी कर ली…

अब राहुल G को देश को बताना चाहिए कि ST बोले तो Schedule Tribe अनुसूचित जन जाति के आरक्षण के बावजूद जो लड़का 7 exam में फेल हो रहा उसको मोदी जी कौन सी नौकरी दे दें?

राहुल G को देश को बताना चैये कि जब वो प्रधानमंत्री बनेंगे तो BA 1st year के 17 वर्षीय लड़कों को कौन सी नौकरी देंगे?

यही शहरी naxalism है… इसी तरह जनता को भड़काया जाता है सशस्त्र विद्रोह के लिए या खुदकुशी करने के लिए।

Leader किसे कहते हैं?

Leader वो होता है जो देश – समाज को lead करे, सही रास्ते पर ले जाए… Leader का काम होता है कि समाज को सही रास्ता बताये, ये कि परिश्रम/ पुरुषार्थ करो… Failure से मत घबराओ… सफलता Success की बुलंद इमारत असफलताओं की नींव पर ही खड़ी होती है… सिर्फ एक साल की तैयारी के बाद अगर फेल हो जाओ तो और प्रयास करो, और पुरुषार्थ करो… न कि खुदकुशी कर लो…

पर कल अलवर में राहुल G उन चार लड़कों की खुदकुशी का ठीकरा मोदी जी के सिर फोड़ रहे थे…

Leader वो होता है जो देश को प्रेरित करे कि सिर्फ सरकारी नौकरी के पीछे मत भागो… स्वरोजगार करो… Skill सीखो… Entrepreneur बनो… नौकरी मांगने वाले नहीं बल्कि नौकरी देने वाले बनो…

राहुल G आप भी leader बनिये। युवाओं को तरक्की, खुशहाली का रास्ता बताइये न कि खुदकुशी का…

स्कूल बैग और राहुल का राफेल राग

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY