कोई तो सुलझा दो रे बाबा, ये गुत्थी

कल से एक पहेली सुलझाने का प्रयास कर रही हूँ… अभी तक नहीं सुलझी।

राहुल गांधी कौल ब्राह्मण कब बने और उनका गोत्र दत्तात्रेय कैसे हुआ?

नेहरू जी के बारे में तो कहा जाता है कि वो कौल ब्राह्मण थे।

पर इंदिरा गांधी की शादी के बाद तो उनका गोत्र बदल गया होगा… फिरोज़ गांधी का गोत्र किसी को पता ही नहीं है… फिर भी राजीव गांधी हिन्दू ही थे… इस प्रसंग में हम मान लेते हैं कि गांधी-नेहरू खानदान में माता का धर्म मानने की परंपरा रही होगी।

तो उस फॉर्मूले के अनुसार राहुल गांधी का धर्म भी उनके नाना वाला ही होगा और गोत्र भी!

अब समझ में नहीं आ रहा है कि इटली में किसने धर्मांतरण करा कर दत्तात्रेय गोत्र वाले कौल ब्राह्मणों को बसा दिया!

शायद सुरजेवाला जूनियर के पास सोनिया गांधी के धर्म परिवर्तन की कोई न कोई तस्वीर जरूर होगी… जब वो हिन्दू बनी रही होंगी।

अच्छा धर्म परिवर्तन इतना आसान काम है राहुल गांधी के लिए तो क्यों न इनको ही सेंटेनिल द्वीप (अंदमान) पर भेज दिया जाए…

वैसे भी भाई कहता रहता है कि वो लोगों को जोड़ने का काम करते हैं। उधर वाले निवासियों को भी इधर वालों से जोड़ देंगे।

इस खानदान की एक और विशेषता पता चली…..राहुल गांधी के चाचा संजय गांधी के बेटे वरुण गांधी के दादा का नाम तो फिरोज़ गांधी है… पर… राहुल गांधी के दादा का नाम किसी काँग्रेसी को नहीं पता है!

शायद दादा-दादी का भी बँटवारा हो गया होगा… दादी राहुल गांधी के हिस्से में और दादा वरुण गांधी के हिस्से में।

फिरोज़ गांधी ने अपना धर्म परिवर्तन किया था या वरुण गांधी ने किया है… ये भी पता नहीं… लेकिन वरुण गांधी के मामले में तो हम मान सकते हैं कि उन्होंने भी माँ वाले धर्म को मानने की परंपरा को कायम रखा होगा।

इतनी माथापच्ची के बाद भी दत्तात्रेय गोत्र वाले कौल ब्राह्मण की गुत्थी नहीं सुलझ रही… कोई तो सुलझा दो रे बाबा।

पारसी व कैथोलिक ईसाई मंथन से निकला दत्तात्रेय गोत्र

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY