मोदी द्वारा अभिजात्य वर्ग के रचनात्मक विनाश को समझिये और समर्थन दीजिए

ब्रिटिश औपनिवेशिक व्यवस्था ने extractive (दोहन करने वाली) संस्थाओं का निर्माण किया, चाहे वह अफ़्रीकी देश हो या भारत। स्वतंत्रता मिलने के बाद अफ्रीकी राजनेताओं ने ब्रिटेन की शोषण या दोहन करने वाली नीतियों को जारी रखा, क्योकि इनसे सत्ता पर उनका वर्चस्व बना रहेगा। यह पैटर्न स्वतंत्रता के बाद के अफ़्रीकी देशों जैसे कि … Continue reading मोदी द्वारा अभिजात्य वर्ग के रचनात्मक विनाश को समझिये और समर्थन दीजिए