सिरे से खारिज किये जाने लायक किताब ‘युद्ध में अयोध्या’

बरसों पहले कभी अस्सी के दशक में मशहूर व्यंगकार शरद जोशी दैनिक व्यंग लिखते और वो नवभारत टाइम्स में छपा करता। उनके व्यंगों की ‘प्रतिदिन’ नाम की श्रृंखला आई तो उसमें स्पष्ट लिखा था कि ये अख़बारों में छपे उनके व्यंगों का संग्रह है। कौन सा किस दिन लिखा गया था, उसकी तारीख भी मौजूद … Continue reading सिरे से खारिज किये जाने लायक किताब ‘युद्ध में अयोध्या’