शहर के प्रवेश मार्गों पर लगें CCTV कैमरे, ताकि घुस न सकें संदिग्ध, कलेक्टर के निर्देश

जबलपुर कलेक्टर श्रीमति छवि भारद्वाज ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित बैठक में चुनावी तैयारियों की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को गम्भीरता और सजगता से अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि आने वाला समय चुनाव के लिहाज से ज्यादा महत्वपूर्ण है अतः अधिकारियों को भी अधिक सचेत रहना होगा।

श्रीमती भारद्वाज ने बैठक में दिव्यांगों को मतदान में सहायता के लिए दिव्यांग मित्रों की नियुक्ति और उन्हें फ़ोटो परिचय पत्र जारी करने की कार्यवाही एक नवम्बर तक हर हालत में पूरी कर लेने की हिदायत सम्बन्धित अधिकारियों को दी। उन्होंने दिव्यांगों को सुगम मतदान के लिये प्रत्येक मतदान केंद्र पर सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने की दिशा में अभी तक की गई कार्यवाही की जानकारी भी बैठक में ली।

कलेक्टर ने बैठक में एक्सपेंडिचर मॉनिटरिंग सेल के कार्यों की समीक्षा करते हुए निर्वाचन व्यय पर निगरानी रखने की व्यवस्थाओं को और सुदृढ़ बनाने पर जोर दिया।

श्रीमती भारद्वाज ने बैठक में बताया कि चुनाव के दौरान संदिग्धों पर नजर रखने शहर के प्रवेश मार्गों नजर रखने छह स्थानों पर सीसीटीव्ही कैमरे लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि सीसीटीव्ही कैमरे लगाने की कार्यवाही नगर निगम द्वारा की जाएगी।

कलेक्टर ने बताया कि सीसीटीव्ही कैमरों के माध्यम से शहर के प्रवेश मार्गों पर एक साथ कलेक्टर कार्यालय के चुनाव कंट्रोल रूम से नजर रखी जायेगी। इसके लिए कंट्रोल रूम में वीडियो वाल बनाई जायेगी।

कलेक्टर ने उन सभी प्रवेश मार्गों पर एक एक एसएसटी नियुक्त करने के निर्देश भी दिए जहां सीसीटीव्ही कैमरे लगाए जा रहे हैं। श्रीमती भारद्वाज ने कहा कि प्रवेश मार्गों पर नाईट विजन कैमरे लगाए जाएंगे।

कलेक्टर ने बैठक में चुनाव के दौरान निर्वाचन व्यय की दृष्टि से संवेदनशील क्षेत्रों में भी एसएसटी को तैनात करने तथा एसएसटी और एफएसटी की तैनाती को चुनाव कंट्रोल रूम में जिले के मानचित्र पर प्रदर्शित करने के निर्देश भी दिए।

श्रीमती भारद्वाज ने एसएसटी और एफ़एसटी टीमों के लिए तीन नवम्बर को मॉकड्रिल आयोजित किये जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मॉकड्रिल का विधिवत डॉक्यूमेंटेशन भी किया जाना चाहिए।

उन्होंने विधानसभा का चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के निर्वाचन व्यय लेखे के निरीक्षण का कार्यक्रम तैयार करने की हिदायत भी इलेक्शन मॉनिटरिंग सेल के अधिकारियों को दी।

कलेक्टर ने मतदान सामग्री के वितरण और मतदान सामग्री की वापसी के लिए कर्मचारियों की तैनाती को लेकर की जा रही कार्यवाही की जानकारी भी बैठक में ली।

उन्होंने कहा कि सामगी वितरण और सामग्री वापसी के लिए कर्मचारियों-अधिकारियों का कार्य एक नवम्बर तक हर हालत में पूरा कर लिया जाना चाहिये। श्रीमति भारद्वाज ने मतदान दलों में नियुक्त कर्मचारियों को पहचान पत्र 17 नवम्बर से आयोजित प्रशिक्षण में वितरित करने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने बैठक में बताया कि 13 नवम्बर को भारत निर्वाचन आयोग के अधिकारियों की उपस्थिति में डिस्ट्रिक्ट इलेक्शन पोर्टल और डिस्ट्रिक्ट इलेक्शन एटलस का विमोचन होगा। उन्होंने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के अधिकारी इस दिन यहां संभाग में चल रही तैयारियों की समीक्षा करेंगे।

श्रीमती भारद्वाज ने मतदान दलों में नियुक्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों को मानदेय का भुगतान उनके बैंक खाते में मतदान के पूर्व 26 नवम्बर की शाम तक करने की हिदायत सम्बन्धित अधिकारियों को दी।

उन्होंने अधिकारियों को मतदान दलों में नियुक्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों के कोषालय भेजे गए बैंक डिटेल्स की जांच कर लेने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि यदि मतदान कर्मियों को समय पर मानदेय का भुगतान नहीं हुआ तो सम्बन्धित अधिकारियों के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी।

कलेक्टर ने बैठक में मतदान कर्मियों की आवास और भोजन व्यवस्था के बारे में भी अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मतदान कर्मियों को मतदान केंद्रों पर दिए जाने वाले भोजन और नाश्ते में एकरूपता होनी चाहिए। श्रीमती भारद्वाज ने इसके लिये स्टेंडर्ड मेन्यू तैयार करने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए।

कलेक्टर ने बैठक में नगर निगम अधिकारियों को चुनाव के दौरान होर्डिंग्स के उपयोग के बारे में तय किये गए मापदण्डों का कड़ाई से पालन करने कहा है। उन्होंने कहा कि नगर निगम अधिकारियों को ध्यान रखना होगा कि एक ही राजनैतिक दल को 20 प्रतिशत से अधिक होर्डिंग्स का आवंटन न हो। इसके साथ ही 10 प्रतिशत होर्डिंग्स निर्दलीय उम्मीदवारों के लिए भी आरक्षित होने चाहिए।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY