नर्मदा महोत्सव का शानदार आगाज़ : कविता पौडवाल के भजनों ने मोहा मन

श्वेत धवल संगमरमरी चट्टानों के बीच माँ नर्मदा की अथाह जलराशि को समेटे भेड़ाघाट में दो दिवसीय नर्मदा महोत्सव का आज शानदार आगाज हुआ। सुर-ताल और नृत्य से सजी नर्मदा महोत्सव की आज की महफिल का मुख्य आकर्षण प्रख्यात गायिका कविता पौडवाल का गायन था।

धुआंधार जलप्रपात की वजह से विश्व के पर्यटक मानचित्र पर अपनी अलग पहचान बना चुके भेड़ाघाट में खास शरद पूर्णिमा के अवसर पर नर्मदा महोत्सव के आयोजन का यह लगातार चौदहवां वर्ष है।

महोत्सव का शुभारंभ नर्मदा पूजन से हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पुलिस उप महानिरीक्षक बी.एस. चौहान थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज ने की एवं पुलिस अधीक्षक अमित सिंह कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि थे।

जबलपुर टूरिज्म प्रमोशन काउंसिल द्वारा राज्य शासन के संस्कृति विभाग, पर्यटन विकास निगम, जिला प्रशासन, जिला पंचायत, नगर निगम जबलपुर और भेड़ाघाट नगर पंचायत के सहयोग से मुक्ताकाशीय मंच पर आयोजित नर्मदा महोत्सव के पहले दिन के सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शुरूआत भोपाल से आई गायक कलाकार सुश्री आकृति मेहरा के गायन से हुई।

सुश्री आकृति मेहरा ने “ऐ मालिक तेरे वंदे हम”, “ओ माँ तू कितनी अच्छी है”, “तोरा मन दर्पण कहलाए” जैसे भजनों से अपनी गायकी की शुरूआत की और श्रोताओं को देर तक बांधे रखा।

सुश्री मेहरा के गायन के बाद मथुरा के श्री गिरधर गोपाल शर्मा द्वारा गिरीराज लोक कला दल के साथ बृज के प्रसिद्ध मयूर एवं रास नृत्य की मनमोहक प्रस्तुति दी गई।

नर्मदा महोत्सव के पहले दिन के कार्यक्रमों की अंतिम प्रस्तुति मुंबई की पाश्र्व गायिका कविता पौडवाल का गायन थी। सुश्री पौडवाल ने अपनी सुरीली आवाज में “सत्यम शिवम् सुंदरम्” से गायन की शुरुआत की और “तूने मुझे बुलाया शेरावालिए”, “गंगा तेरा पानी अमृत” और “यशोमति मैय्या से बोले नंदलाला” जैसे फिल्मी भजन प्रस्तुत किए।

नर्मदा महोत्सव में कल सूफी गायक हंसराज हंस का गायन

नर्मदा महोत्सव के कल 24 अक्टूबर को दूसरे और समापन दिवस पर प्रख्यात सूफी गायक हंसराज हंस की सुरीली आवाज संगमरमरी वादियों में गूंजेगी। श्री चन्द्रमोहन ठाकुर द्वारा हिमाचल प्रदेश के सिरमौरी नाटी नृत्य की प्रस्तुति भी महोत्सव के दूसरे दिन का प्रमुख आकर्षण होगी।

नर्मदा महोत्सव के दूसरे दिन के कार्यक्रमों का आगाज भी शाम 7 बजे माँ नर्मदा की पूजा अर्चना से होगा। दूसरे दिन के कार्यक्रमों के मुख्य अतिथि पश्चिम मध्य रेलवे के महाप्रबंधक अजय विजयवर्गीय होंगे। संभागायुक्त आशुतोष अवस्थी कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।

दूसरे दिन के सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शुरूआत शाम 7.45 बजे श्री मोती शिवहरे के निर्देशन में नवरंग कथक कला केन्द्र देवी वंदना नृत्य द्वारा प्रस्तुत किया जायेगा। सूफी गायक हंसराज हंस का गायन रात 9 बजे से शुरू होगा।

क्या हो गया है जबलपुर की प्रबुद्धता को..?

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY