अनीता की रसोई से : फलाहारी दही बड़ा

सामग्री

समा के चावल – एक कटोरी
मीडियम साइज का साबूदाना – 1 टेबलस्पून
सेंधानमक – स्वादानुसार
भुना पिसा जीरा – एक टी स्पून
दही – 250 ग्राम
हरीमिर्च – 1
अदरक – 1 टुकड़ा किसा हुआ
तेल या घी – तलने के लिए
सिंघाड़े या कुट्टू का आटा – एक टीस्पून
किशमिश – 15-20

विधि

समा के चावल व साबूदाना अच्छी तरह साफ कर हल्का भून लें (ब्राउन नहीं करना है बस नमी निकल जाए) फिर ठंडा कर के मिक्सी में पीसकर पावडर बना लें।

हरीमिर्च बारीक काटें व अदरक को महीन किस लें।

अब पावडर को थोड़े से पानी में घोलकर पैन में घी या तेल गर्म कर उसमें घोल व कुट्टू या सिंघाड़े का आटा व सेंधानमक डाल लगातार चलाते हुए गाढ़ा (गुंथे आटे जैसा) कर लें।

अब इसे थाली में निकाल कर हथेलियों में घी लगा अच्छी तरह गूंथ लें ताकि एकसार हो जाए।

फिर गर्म ही इसकी छोटी गोलियां बना कर उसमें एक किशमिश, कटी हरीमिर्च, अदरक का छोटा सा टुकड़ा भरते हुए बंद कर चपटा करें।

इसी तरह सभी गोलियों को भर चपटा कर फ्राई कर लें। जब परोसना हो तब पांच मिनट पहले पानी में भिगोएं।

नोट

यदि तला ना खाएं तो अप्पेमेकर में हल्के घी में भी सेंक सकते हैं।

मीठी चटनी

सामग्री

इमली – 100 ग्राम
गुड़ या चीनी – 150 ग्राम
पिसी कालीमिर्च – आधा टीस्पून
भुना पिसा जीरा – आधा टीस्पून
साबुत जीरा – चौथाई चम्मच
हींग – 1 चुटकी
किसा अदरक – दो टीस्पून
किशमिश – 15-20
घी – एक टीस्पून
सेंधानमक – स्वादानुसार

विधि

इमली को गुनगुने पानी में एक घंटा पहले भिगो दें फिर उसको छन्नी से हाथ से अच्छी तरह मसल कर छान लें।

अब पैन में घी गर्म करें उसमें जीरा व हींग डाल दें।

जीरा चटकने पर इमली का गूदा, गुड़ या चीनी, कालीमिर्च, भुना जीरा व नमक डाल आधा गिलास पानी मिलाकर उबालें।

जब उबाल आ जाए तब अदरक व किशमिश डाल कर गाढ़ा करें फिर आंच से उतार लें।

नोट

यदि व्रत में लालमिर्च इस्तेमाल करते हों तो वह भी डाल सकते हैं।

अनीता की रसोई से : साबूदाना बड़ा

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY