क्यों और किसके लिए लिखी गई ‘वैदिक सनातन हिंदुत्व’

संलग्न फोटो के मध्य में दिख रही पुस्तक मैंने दिल्ली के हवाई अड्डे से खरीदी थी। यह पुस्तक अंग्रेज़ लेखक ने 1882 में लिखी थी और यह आज तक बिक रही है। यही नहीं, हिंदुत्व पर अनेक पुस्तकें आजकल खूब बिक रही हैं और जो भी जहां भी मिलती है मैं ले लेता हूँ, मगर … Continue reading क्यों और किसके लिए लिखी गई ‘वैदिक सनातन हिंदुत्व’