प्रेम अभिव्यक्ति डॉ अव्यक्त की : ठीक है??

प्रिय श्रुति,

श्रुति प्लीज़, मुझे भी एक आध छोटी मोटी कांफ्रेंस में स्पीकर बनवा देना।
वैसे तो सब ठीक है लेकिन…
बच्चे पालते पालते परेशान हो गया हूँ।

यूटयूब से 5 रेसिपी सीख कर बना चुका हूँ, लेकिन सब कुछ का कुछ बनीं। अब देखो अगली बार तुम कोई आसान रेसिपी का वीडियो अपलोड कर जाना।

बच्चे कुशल मंगल हैं, ज़रा उधमी हैं, याद करते होंगे तुम्हें, लेकिन रोक टोक न होने की खुशी भी है शायद।

कल क्लिनिक से लौटा तो अंदर से दरवाज़ा बंद करके सो चुके थे। 1 घंटे तक बेल बजाता रहा, आवाज़ देता रहा।

रात के 12 बजे तक। मोहल्ले वाले झांक झांक कर देख रहे थे, डॉक्टर साब हिल तो नई गए?… ज़ैसे ही कोई मुझे देखता ज़रा धीमी आवाज़ में मैं चिल्लाता.. बच्चों दरवाजा खोलो। ज़ैसे ही खिड़की से कोई मुंडी दिखती चुप हो जाता । मुंडी के अंदर जाते ही चिल्लाता… खोल दे भाई। लेकिन दोनों सोते रहे, तो सोते रहे।

बाक़ी सब ठीक ही है।

अरे ये पड़ोसी…. उनको ये भी नहीं पता कि तुम गई हुई हो, कहीं ये तो नहीं सोच रहे होंगे कि तुम घर में नहीं आने दे रही हो मुझे?

ये लालाइन की आंखें तभी चमक रही हैं। चटखारे, खुसुर-फुसुर…

कह रही होगी लाला को कोहनी मार… “देखो देखो अग्रवालन दरवज्जा खोल ही नहीं रही। तुम तो बस पाकिस्तान, अमरीका में क्या हो रहा देखते रहो। हमाये पड़ोस में क्या हो रहा कोई होश है?… ”

कल देखना शरमाईन, लालाइन मिलकर बस अग्रवालन की बात करेंगी।

अब लाला, लालाइन की क्या बात करें…
बाकी सब ठीक ही है।

कल सुबह के लिए ब्रेड रखी है।

सबसे बड़ी मुश्किल लाइटर की है। मिलता ही नहीं।

और चाय बना तो लेता हूँ लेकिन छन्नी पता नहीं कहाँ रखी है।

बिना पत्ती की चाय पीने लगा हूँ।

बाकी सब ठीक ही है।

तुम सारी कंघियाँ भी ले गई हो। मेरा तो चल जाता है बाल कम हैं, लेकिन बच्चों के बाल खींच मेम कह रही थीं , “बड़े हीरो बनते हो?”!..

बाकी सब ठीक ही है।

अच्छा छोड़ो ये सब, तुम वहाँ, अच्छे से लेक्चर देना, जितना भी लेक्चर देना है साल भर का सब वहीं देकर आना। अब मैं नहीं सुनूँगा… ok..

और तुम तो अच्छा, अच्छा खा रही होगी न?

चलो रखता हूँ अब, खिचड़ी जल न जाये।

बाकी सब ठीक ही है।

तुम्हारा

अव्यक्त

हमें तो कोई बुलाता ही नहीं, बाकी सब ठीक है।

PIC – International Conference Of Women Health and Empowerment.
Dr Shruti is Addressing teenage girls.

डॉ श्रुति अग्रवाल का लेख पढ़ने के लिए नीचे दी गयी लिंक पर क्लिक करें –

क्या आप सुपरवुमन हैं या फिर एक सुपरवुमन बनने के लिए प्रत्यनशील हैं?

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY