वे A2 दूध पी रहे, हम हाइब्रिड A1 दूध पीकर अस्पतालों के चक्कर काट रहे

साउथ के सुपरस्टार अर्जुन को उनके बर्थडे में उनकी बेटी ने गुजराती गिर गाय गिफ्ट की। ये अपने आप में बहुत बड़ा चीज है..

क्योंकि…

इधर साउथ में ही एक बड़के वैज्ञानिक हुए थे नाम ‘वर्गीज कुरियन’, जिसे श्वेत क्रांति का जनक कहा जाता है भारत में। इसके दिमाग ने दूध की नदियां बहा दी भारत में। दुग्ध उत्पादन में पूरे विश्व पटल में एक अलग छाप छोड़ी भारतीय डेयरी ने।

हलेलुइया फैमिली में जन्म लिए थे कुरियन साब.. इनका भारत के प्रति इतना योगदान था कि इन्हें 1986 में Wateler Peace Prize Award नीदरलैंड से नवाजा गया था।

1964 में मैग्सेसे अवार्ड, 1965 में पद्मश्री, 1966 पदम् विभूषण,1989 में वर्ल्ड फ़ूड अवार्ड आदि आदि अवार्ड से नवाज़े गए.. अब कद कितना बड़ा होगा ये जान सकते हैं।

लेकिन इस बूढ़े ने भारतीय गायों का जो सत्यानाश किया वो किसी ने भी नहीं किया। पूरी देसी नस्ल को बर्बादी के कगार पे ला कर खड़ा कर दिया। नस्ल ही हाइब्रिड कर दिया।

ये दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए ‘हाइब्रीडइजेशन’ टेक्निक को लॉन्च किया जिसमें ये भारतीय गायों को डच हम्प्लेस साँढ़ों से क्रॉस ब्रीडिंग करवाने की वकालत किये।

और आज जिस नस्ल की गाय के दूध का हम सेवन कर रहे हैं वो कुरियन साहब की ही मेहरबानी है और सारी बीमारियों की जड़। हाई बीपी, शुगर लेवल, कोलेस्ट्रॉल लेवल और नाना प्रकार की बीमारियों की सौगात इसी हाइब्रिड नस्ल की गायों द्वारा उत्पन्न की जाने A1 दूध के चलते हो रहा है।
भारतीय स्वस्थ जीवन शैली में पश्चिमी मेडिकल माफियाओं द्वारा जो प्लांट किया गया कुरियन बूढ़े की मदद से उसकी फसल अब वो अच्छे से काट रहे हैं।

वे अपने सुपर मार्केट से A2 का लेवल चिपकाया हुआ दूध पी रहे हैं और हम हाइब्रिड A1 दूध पी-पी के अस्पतालों के चक्कर काटते नजर आ रहे हैं।

इस कुरियन बूढ़े के मंसूबों को देखते हुए गुजरात के डेयरी फर्म वालों ने गुस्से में इनके बेटी के विवाह में दहेज के रूप में कुछ होल्सटीन हम्प्लेस गायों को गिफ्ट के रूप में भेंट किये थे।

आज अगर A1 और A2 की बात उठ रही है और देसी नस्ल की गायों का माहत्म्य पता चल रहा है तो इस स्थिति में एक सुपरस्टार की बेटी द्वारा उनके बर्थडे पे देसी गाय गिफ्ट करना निश्चय ही काबिले तारीफ है।

गुलामी के अवशेषों को संभाल कर रखने वाला देश गोवंश को संभालने में असमर्थ क्यों?

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY