आयुष्मान भवः – देश बढ़ा स्वास्थ्य की ओर

बहुत से लोगों को पीएम की आयुष्मान योजना पर शक है कि यह योजना चलेगी कि नहीं चलेगी।

ये योजना कोई आजकल की सोची हुई नहीं है, ये योजना ओबामा केयर से प्रेरणा लेकर बनाई योजना है। ओबामा केयर भी बहुत सफल हुई थी अमेरिका में।

भारत में यह योजना चलेगी कि नहीं चलेगी इस का पूरा अभ्यास मोदी और उनकी टीम ने किया है।

आइये समझते हैं क्या अभ्यास किया है मोदी ने?

मैं दावे से कहता हूं ये योजना 100% सफल होगी। वक्त लगेगा पर सफल ज़रूर होगी क्योंकि मैं इस योजना के एक छोटे से रूप से परिचित और लाभान्वित हुआ हूँ।

पीएम मोदी आयुष्मान योजना की शुरुआत कर रहे हैं। इस योजना का एक छोटा सा रूप वे गुजरात में आनंदी बेन के कार्यकाल में शुरू करवा चुके थे। कह सकते हैं कि ये शायद एक टेस्ट था आयुष्मान योजना का।

गुजरात के रहने वालो को माँ अमृत कार्ड या माँ अमृतम योजना के बारे में पता ही होगा। इस योजना से जुड़े गुजरात के रहने वाले 3 लाख से कम आय के हर व्यक्ति को जुड़ने का अधिकार है। हार्ट, लिवर जैसे बड़े आपरेशन हो या घुटने बदलवाने हो ऐसे बड़े ऑपरेशन में 3 लाख तक का खर्च सरकार करती है।

ऑपरेशन भी 5 स्टार हॉस्पिटल में होते हैं। मेरी खुद की बहन की सासुमा, मेरे मित्र के पिताश्री और एक मित्र के माताश्री हार्ट और घुटनों का ऑपरेशन करवा चुके हैं। शुरुआत में बहुत से ईर्ष्यालुओं को लगता था कि ये योजना फेल होगी पर यह योजना यहाँ पूरी तरह सफल है।

इसी योजना को आगे बढ़ाते हुए मोदीजी ने आयुष्मान योजना लॉन्च की है। आयुष्मान योजना मोदी जी के उन सपनों में से एक है जो मजबूत भारत की नींव रखेगा। कुछ मूर्ख कोंग्रेसी कहते है कि ये कोरी लफ्फाजी है कुछ नहीं होगा।

अरे मूर्खों, तुमसे कुछ ना होता था इस लिए तूम हर किसी को मूर्ख ही देखना चाहते हो। ये मोदी है 2019 मोदी का ही है और कोई दूर दूर तक नहीं दिखता।

खबर

पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ योजना प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना- आयुष्मान भारत को देश को समर्पित किया। झारखंड की राजधानी रांची से इस आयोजन की शुरुआत करते हुए मोदी ने कहा कि इस योजना के तहत अब गरीबों को भी धनी लोगों की तरह स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी।

पीएम मोदी ने योजना को लॉन्च करते हुए कहा, ‘हमारे ऋषि मुनियों ने सपना देखा था सर्वे भवंतु सुखिन का। हमें सदियों पुराने संकल्प को इसी शताब्दी में पूरा करना है। समाज की आखिरी पंक्ति में जो इंसान खड़ा है, गरीब से गरीब इंसान को इलाज मिले। स्वास्थ्य की बेहतर सुविधा मिले। कैंसर जैसी 1300 गंभीर बीमारियों का इलाज पीएम ने योजना की जानकारी देते हुए बताया कि कैंसर जैसी 1300 गंभीर बीमारियों को इसमें शामिल किया गया है। इन बीमारियों का इलाज सरकारी ही नहीं प्राइवेट अस्पतालों में भी सुलभ होगा।

सौभाग्य योजना : नरेन्द्र मोदी ने चल दिया अपना पहला ब्रह्मास्त्र

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY