यादों के झरोखे से : जब मोरारजी देसाई ने ज्ञानी जैल सिंह को जेल जाने से बचाया

जनता पार्टी के शासनकाल की बात है। सत्तारूढ़ लोग कांग्रेसियों से गिन-गिनकर इमरजेंसी के दौरान उन पर किए गए अत्याचारों का बदला लेने के लिए जुटे हुए थे।

पंजाब में सरदार प्रकाश सिंह बादल की सरकार थी। पूर्व कांग्रेसी मुख्यमंत्री ज्ञानी जैल सिंह उसके निशाने पर थे।

पंजाब सरकार ज्ञानी जैल सिंह के खिलाफ कई मुकदमे दर्ज कर चुकी थी। ज्ञानी जी जान बचाने के लिए जगह-जगह छुप-छुपकर जीवन व्यतीत कर रहे थे।

1978 की बात है कि साउथ एवेन्यू में चाय की एक दुकान पर मेरी ज्ञानी जी से भेंट हुई। ज्ञानी जी मेरे पुराने जानकार थे।

उन्होंने बातचीत के दौरान कहा कि इन दिनों वे बहुत परेशान हैं और गिरफ्तारी से बचने के लिए जगह-जगह मारे फिर रहे हैं। बादल सरकार उन्हें किसी भी कीमत पर गिरफ्तार करके उन्हें प्रताड़ित करना चाहती है।

उन दिनों बादल सरकार ने एक कांग्रेसी नेता ओंकार चन्द को विभिन्न आरोपों में गिरफ्तार करके पटियाला स्थित माइ की सराय के टॉर्चर चैम्बर में बुरी तरह से प्रताड़ित किया था। इसलिए ज्ञानी जी पुलिस द्वारा मारपीट किए जाने की सम्भावना से काफी घबराए हुए थे।

ज्ञानी जी ने मुझे बताया कि गत एक माह में अपने अज्ञातवास के चक्कर में एक दर्जन से अधिक बार अपने स्थान बदल चुके हैं और अब कोई मित्र उन्हें जगह देने के लिए तैयार नहीं हैं और अब वे सांसद के एक सर्वेंट क्वार्टर में छुपकर रह रहे हैं।

ज्ञानी जी की कहानी सुनकर वास्तव में दुःख हुआ और मैंने उन्हें सलाह दी कि वे प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई से भेंट क्यूं नहीं करते। ज्ञानी जी ने कहा कि प्रधानमंत्री मुझसे क्यूं मिलेंगे? तब मैंने उन्हें कहा कि मैं कुछ प्रयास करता हूं।

उन दिनों मोरारजी देसाई के मीडिया सलाहकार मेरे पत्रकार मित्र भट्ट साहब हुआ करते थे। मैंने भट्ट साहब से अनुरोध किया कि वे किसी तरह से ज्ञानी जी की मुलाकात मोरारजी देसाई से करवा दें।

दोनों के बीच मुलाकात हुई। ज्ञानी जी के अनुसार मोरारजी देसाई ने उनकी सारी कहानी सुनी और तुरन्त पंजाब के मुख्यमंत्री सरदार प्रकाश सिंह बादल को टेलीफोन लगाकर निर्देश दिया कि ज्ञानी जी को किसी भी कीमत पर राजनीतिक द्वेष के कारण किसी भी झूठे मुकदमे में गिरफ्तार ना किया जाए।

मोरारजी देसाई का यह निर्देश ज्ञानी जी के लिए ब्रह्मास्त्र सिद्ध हुआ और वे जेल जाने से बाल-बाल बच गए।

‘यादों के झरोखे से’ श्रृंखला के अन्य लेख

यादों के झरोखे से : बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी अटलजी

यादों के झरोखे से : जब नेहरू ने खरबपति डालमिया को मिट्टी में मिला दिया

यादों के झरोखे से : जब एक पूर्व प्रधानमंत्री को फुटपाथ पर डेरा जमाना पड़ा

यादों के झरोखे से : देश के गद्दार के साथ फारूक अब्दुल्ला

यादों के झरोखे से : शेख अब्दुल्ला एक विवादित हस्ती

यादों के झरोखे से : मास्टर तारा सिंह एक राष्ट्रभक्त सन्त नेता

यादों के झरोखे से : सारा जीवन नेहरु और कांग्रेस के विरोध में खपा देने वाले डॉ लोहिया

यादों के झरोखे से : जब मोरारजी ने शाही इमाम को स्टेज से उतार दिया 

यादों के झरोखे से : जब जगजीवन राम के बेटे ने पिता के बंगले पर धरना दिया

यादों के झरोखे से : ऐसे थे पंडित दीनदयाल उपाध्याय

यादों के झरोखे से : जब संसद में महावीर त्यागी ने बंद कर दी नेहरू की बोलती

यादों के झरोखे से : जब नेहरू ने डटकर किया गद्दार जनरल का बचाव

यादों के झरोखे से : जब DTC की बसों में धक्के खाते सफ़र करते थे अटल जी

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY