सत्ता शीर्ष पर बैठे नवोदित सेकुलरों की कारगुज़ारियों से फिर रौंदे जाएंगे हम

काश हिंदुओं ने ‘हिन्दू ब्रदरहुड’ के बारे में सोचा होता! हिंदुओं ने उस आरएसएस के लिए प्राण न्योछावर किए… जो अंततः महात्मा बुद्ध, गांधी और सेकुलरिज़्म के आदर्शात्मक उद्देश्यों को समर्पित हो गया। आज भाजपा और आरएसएस… मोमिन/ दलित वोटों की चाह में… हिंदुत्व के नव पल्लवित पुष्प की कलियां बिखेरने पर आमादा हो चुके … Continue reading सत्ता शीर्ष पर बैठे नवोदित सेकुलरों की कारगुज़ारियों से फिर रौंदे जाएंगे हम