ममता बनर्जी की गृहयुद्ध की धमकी, और हिन्दू विरोधियों की गलतफहमी

हमारे देश का यह दुर्भाग्य रहा है कि 1947 से ही अधिकतर समय एक ऐसी पार्टी सत्ता में रही, जिसके नेता कभी भी देश की आर्थिक प्रगति के विषय में सही तरीके से नहीं सोच सके।

दूसरी तरफ सत्ता हथियाये रखने के लिए उन्होंने पूरी कोशिश की, कि हिन्दू व मुस्लिम के बीच सम्बन्ध खराब ही बने रहें, लोग गरीब व अशिक्षित बने रहें।

जिससे उस पार्टी विशेष को मुस्लिमों के अधिकतर वोट और कुछ सेकुलर कहलाने में खुश हो जाने वाले हिन्दुओं के वोट मिलते रहें, ताकि उनकी सरकार बनने में कोई परेशानी न हो।

हिन्दू मुस्लिम को लड़ाने और मुस्लिम वोट पर इस तरह से एकाधिकार करे रहने के चक्कर में यह पार्टी (और इसकी कई B सदस्य पार्टियां) इस हद तक हिन्दू विरोधी और राष्ट्रहित विरोधी हो गई हैं कि अवैध शरणार्थियों के विषय में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर जब भाजपा सरकार कुछ कोशिश कर रही है तो सभी दल आगबबूला हो गये हैं।

सभी दल सरकार को चुनौती दे रहे हैं कि अवैध शरणार्थियों को भाजपा सरकार ऐसे कैसे उनके देश वापस भेज देगी। और हद तो यह है कि राष्ट्र विरोध की पराकाष्ठा तक पहुंचते हुये पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुलेआम गृहयुद्ध की धमकी दे दी है।

ममता जी, धमकी तो ठीक, पर यह गृहयुद्ध किन दो समुदायों – लोगों के दलों के बीच होगा? क्या मुस्लिम और हिन्दू? क्या 20-25 करोड़ मुस्लिम 85-90 करोड़ हिन्दुओं को समाप्त कर देंगे? क्या हिन्दुओं के पास हथियार नहीं?

दूसरे, क्या पुलिस, PAC, BSF, CISF और सबसे ऊपर भारत की सेना इस गृहयुद्ध को अपनी अपनी बैरकों में बैठ कर देखती रहेगी?

खैर, ऐसे किसी भी गृहयुद्ध में करोड़ों हिन्दू भी मारे जा सकते हैं, पर क्या मुस्लिमों का अस्तित्व भी बच पायेगा भारत में?

वर्तमान समय में फौज के सिपाहियों के पास ऐसे हथियार होते हैं कि एक फौजी हज़ारों सामान्य हथियार वाले लोगों को अकेला समाप्त कर सकता है। तो क्यों आप जबरन मुस्लिमों को भड़का कर उनका विनाश करवाना चाहती हो?

और इस सब को देखते समझते एक सवाल पूछने का मन है – आप हिन्दुओं की हितैषी तो खैर नहीं ही हो (और हिन्दुओं के हितैषी तो वामदल, कांग्रेस, सपा, बसपा, राजद जैसे दल भी नहीं हैं), पर क्या आप मुस्लिमों की हितैषी हो भी? आखिर क्यों आप पूरे देश को मुस्लिम विहीन देखना चाहती हो?

ममता जी, आपके इस बयान का फिर भी धन्यवाद। आपके इस बयान से यह तो साफ हुआ कि आप हिन्दू विरोधी व राष्ट्र विरोधी हो। 2019 में सभी हिन्दुओं को अब भाजपा को वोट देते हुये खुशी होगी। 2019 में मोदीजी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनना अब और ज्यादा पक्का हो गया है।

और इन ममता बनर्जी के सुर में सुर मिलाकर बोलने वाले वामदलियों, कांग्रेसियों, सपाइयों, बसपाइयों और राजद के सदस्य हिन्दुओं, समझ लो कि ये पार्टियां तुम्हारे खून की कीमत पर क्या चाहती हैं।

ममता जी और बाकी पार्टियों के हुक्मरानों, 1947 से पहले यह धमकी देकर जिन्ना ने पाकिस्तान ले लिया था – लेकिन तब जिन्ना के सामने मोहनदास करमचन्द गांधी और जवाहरलाल नेहरू जैसे कमजोर इच्छाशक्ति वाले लोग थे।

आज लेकिन सामने चाणक्य की तरह अति तेज दिमाग का मालिक है, और वो सचमुच निर्मोही है। आज तुम्हारी हर गन्दी चाल का सटीक जवाब दिया जायेगा।

इसलिए हे ममता जी, आगे से जो भी बोलना, सोच समझकर बोलना। अधिक बोलना महबूबा मुफ्ती के लिए भी घातक सिद्ध हो चुका है, और आपके लिए भी घातक सिद्ध हो सकता है।

और हां

जय हिंद

अस्तित्व को निगलने आ रहे दावानल से परिचित हुई दिशाभ्रम में जी रही नस्ल

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यवहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY