इमरान खान और उसके भारतीय बच्चे

इमरान खान की दूसरी बीबी अपनी किताब में लिखती हैं कि भारत में इमरान की अवैध संतानों की संख्या ‘पांच’ हो सकती है।

रेहम खान का कहना है कि भारत में इमरान की एक अवैध संतान की उम्र तो अब 34 वर्ष है… जो कि एक युवक है।

हम जैसे लोग, पाकिस्तानियों और पाकिस्तानी क्रिकेटरों की भारत-विरोधी-जेहादी मानसिकता… क्रिकेट मैदान से बाहर भारतीय और हिन्दू महिलाओं के साथ यौन संबंधों को लेकर पाकिस्तानियों से घृणा करते आये हैं।

इमरान बेशक पाकिस्तानी प्रधानमंत्री बन जाये… मगर मेरी नज़र में उसकी औकात गली में खुले-आम एक मादा श्वान के साथ सैक्सरत श्वान से ज़्यादा नहीं है… जब आप आगे पढ़ेंगे तो यह टिप्पणी सही प्रतीत होगी।

1964 के बाद से भारत के क्रिकेट संबंध खत्म थे। 1977 में राष्ट्रवादियों और समाजवादियों की सरकार सत्ता में आई तो भारत की टीम 1979 में पाकिस्तान के फैसलाबाद में क्रिकेट खेलने पहुंची।

यह एक मैत्री सीरीज़ थी… मग़र इसको पाकिस्तान ने जिहाद की तरह खेला… इमरान, सरफराज नवाज़ और जावेद मियांदाद ने एक जेहादी की तरह व्यवहार किया।

उस समय बाउंसर पर रेस्ट्रिक्शन नहीं थी… हमारे पुछल्ला बल्लेबाजों पर एक ओवर में 5-5 बाउंसर फेंके गए। मनिन्दर सिंह जो वास्तव में ग्याहरवें नम्बर पर आते थे… उन पर बीमर डाल कर फोड़ दिया गया।

गाली-गुफ्तारी और बेहद गंदी भारत विरोधी अंपायरिंग के लिए यह श्रृंखला जानी गई… भारतीय ये श्रृंखला हार कर लौटे.. इमरान खान ने मुस्लिम सुप्रीमेसी के व्यंग्य बाण छोड़े।

साल भर बाद पाकी टीम भारत आई। क्रिकेट तो खेला गया… मगर 90 दिन का यह दौरा पाकिस्तानी टीम का सैक्स-टूरिज़्म दौरा बन गया। भारत की एक पूर्व मिस इंडिया इमरान के लिए पागल हो उठीं। तब तक वसीम अकरम टीम में आ गए थे… पाकियों ने भारत को थाईलैंड और फुकेट समझ लिया।

एक पत्रकार ने उसी दौरे के दौरान इमरान से उस प्रख्यात भारतीय अभिनेत्री से संबंधों के बारे में पूछा तो इमरान ने जवाब दिया…”इसमें नई बात क्या है, हम एक जीती हुई कौम हैं… हम तो हज़ार साल से हिन्दू औरतों के साथ हमबिस्तर होते आ रहे हैं… इंशा अल्लाह आगे भी होते रहेंगे।”

इमरान एक प्लेबॉय जेहादी रहा है… यहूदी खरबपति की पुत्री जेमिमा स्मिथ के साथ निकाह करना… जेमिमा को मुस्लिम बनाना… करोड़ों रूपए हथियाना… 9 साल बाद तलाक हुआ… बच्चे इमरान ने छीन लिए… जेमिमा को सब कुछ लुटाकर वापस इंग्लैंड लौटना पड़ा।

इमरान, वसीम अकरम, वकार यूनुस ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान मारिजुआना के नशे में… मारिजुआना के साथ रंगे हाथों पकड़ा गया। पाक सरकार ने बमुश्किल रिहा कराया… केस वापस कराया।

इमरान जब 21 साल का था… ऑक्सफर्ड में पढ़ रहा था… अय्याशी में मुलव्विस था… बिल्ली के भाग्य से छींका टूटा… बेनज़ीर भुट्टो भी उसी कालेज में पहुच गईं…

कहते हैं कि ऑक्सफ़र्ड में इमरान ने बेनज़ीर को अपनी सैक्स स्लेव (यौन गुलाम) बना कर रखा… और नशीले पदार्थों की लत भी डाल दी… लेकिन सिर्फ बेनज़ीर से नहीं… इमरान को लगातार ‘स्वाद’ बदलने की आदत 20-21 साल की उम्र से लग चुकी थी।

ज़ी न्यूज़ के सुधीर चौधरी इमरान को वन मैन आर्मी कह रहे हैं, एबीपी न्यूज़ के अभिसार शर्मा पाकिस्तान का नया सूरज बता रहे हैं… इमरान को! टाइम्स नाओ के अतहर खान की खुशी का कहना ही क्या… कह रहे हैं कि मज़बूत पाकिस्तान भारत के लिए बहुत अच्छा है।

इन मूर्खों को इमरान के पहले भाषण में भारत को दिए गए लांछन, आरोप और जेहादी चालबाजियां नहीं दिखाई दीं? कश्मीर पर इमरान को फौरन बातचीत चाहिए… कश्मीरी मुसलमान उनके अर्थात इमरान के अपने हैं… मग़र इमरान खान, कश्मीर आतंकी गतिविधियों को रोके बगैर भारत-पाक का खुला व्यापार तुरंत चाहते हैं…

विश्वास मानिए… पाकिस्तान को मुशर्रफ और ज़िया उल हक के बाद एक और जेहादी सुल्तान मिल गया है… हमारे पास महात्मा गांधी, गौतम बुद्ध और शांति के पुजारियों की अंतहीन श्रृंखला है… पता नहीं, आधुनिक गांधी ने इमरान को जीत की बधाई दी या नहीं?

विकास और पैसा ही सबकुछ नहीं! याद करिए विभाजन पूर्व के हिन्दुओं/सिक्खों को

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यवहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति मेकिंग इंडिया उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार मेकिंग इंडिया के नहीं हैं, तथा मेकिंग इंडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY