लोगों को रोज़गार चाहिए या सरकारी नौकरी?

देश में कहीं भी चले जाओ, किसी भी सड़क पर… काम लगा है।

पुरानी सड़क चौड़ी हो रही है, नई सड़क बन रही है, 2 Lane वाली 4 lane हो रही है। नए Expressway बनाये जा रहे हैं। शहरों में flyover बन रहे हैं।

शायद ही कोई रेलवे स्टेशन ऐसा होगा जहां काम न लगा हो। नई रेलवे लाइनें बिछ रही हैं। जो single Track थे उनको Double और Electrify किया जा रहा है।

देश में 4 तो नए DFC, यानी Dedicated Freight Corridor अर्थात वो नई रेल लाइन बनाई जा रही हैं जिनपर सिर्फ मालगाड़ियां दौड़ेंगी।

देश की जितनी भी Unmanned Railway Crossing यानी मानव रहित रेलवे फाटक थे उनके नीचे से अंडरपास बनाये जा रहे हैं।

100 से ज़्यादा शहरों में तो स्मार्ट सिटी का ही निर्माण कार्य चल रहा है।

नमामि गंगे में ही गंगा और उनकी सभी सहायक नदियों के किनारे बसे शहरों में बड़े बड़े गहरे सीवर पाइप लाइन बिछा के Sewage Treatment Plant बनाये जा रहे हैं।

बनारस का Sewage Treatment Plant बनारस से 30 किलोमीटर दूर 30 एकड़ जमीन पर बनाया जा रहा है। पूरे बनारस शहर का Sewage वहां पाइप लाइन से जाएगा और ट्रीट हो के उस पानी का कृषि कार्यों में उपयोग होगा।

ये सैकड़ों करोड़ का प्रोजेक्ट है और ऐसे ही Sewage Treatment Plants लगभग हर शहर कस्बे में बन रहे हैं।

भारत माला, सागर माला जैसे वृहद प्रोजेक्ट्स पर कार्य चल रहा है।

Bullet Train प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है।

देश मे 1000 से ज़्यादा Airports और हवाई पट्टी अपग्रेड की जा रही हैं।

देश मे 5 करोड़ शौचालय और 1 करोड़ मकान बन गए प्रधान मंत्री आवास योजना में।

ये जो मैंने काम गिनाए ये देश मे समानांतर चल रहे कुल विकास/ निर्माण कार्यों का 1% भी नहीं हैं।

गांव गिरांव में आ कर देखिये, एक भी जेसीबी खाली नहीं है… सब किसी न किसी हाईवे निर्माण में लगी हैं।

अब मुझे ये समझ नहीं आ रहा कि ये जो देश भर में इतना निर्माण कार्य चल रहा है ये बना कौन रहा है? ये सब काम कर कौन रहा है… अलादीन का जिन्न या Santa Clause?

कांग्रेसी और रविश कुमार रूपी मीडिया कहता है कि सरकार रोज़गार देने में विफल रही… आखिर ये सब निर्माण कार्य करने वाले कामगार जापान सिंगापुर से आये?

सड़क पर काम में लगी जेसीबी कौन चला रहा है? अडानी या अम्बानी?

रोज़गार कहते किसे हैं?

लोगों को रोज़गार चाहिए या सरकारी नौकरी?

गुगली है भैया… अपने स्टंम्प बचाओ

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY