औषधियुक्त शक्तिवर्धक आयुर्वेदिक मीठा पान

नमस्कार दोस्तों, आज हम जो आपको बता रहे हैं वो जानकारी काफी रोचक है, जिसका नाम है पान, मीठा पान।। कई लोग सिर्फ पान खाते हैं स्वाद के लिए, लेकिन उन्हें ये नहीं पता कि इसके कुछ औषधि गुण भी होते हैं। लेकिन मैं आज जो आपको बताऊंगा कि इस पान से सेक्सुअल पॉवर को भी कैसे बढ़ाया जा सकता है। अब बता रहा हूँ कि करना क्या है।

मीठे पान में आपको ये चीज़े मिला लेनी है।
एक लौंग
मन्मथ रस
रस सिंदूर
एक इलायची
और एक सुपारी।

और बस आपका पान तैयार है। अब इसे एक सुबह और एक रात को सोने से आधा घंटे पहले खा लें और देखें इसका चमत्कार। ऐसा आपको कई दिन तक करना है। और हाँ याद रहे एक या दो से ज्यादा पान ना खाएं। अति हर चीज़ की बुरी है। और एक दिन का एक पान आप पूरा साल खा सकते है, इसका कोई भी साइड एफफेट्स नहीं होता।

लखनऊ के लोग पान खाने के बहुत शौकीन हैं। इसकी गवाही लखनऊ की सड़कों और गलियों के किनारे लगी पान की दुकानें देती हैं। पान खाना आज का शौक नहीं है। ये काफी पुराने समय से समाज का हिस्सा है। पान में कई स्वास्थ्यवर्धक गुण भी छिपे हुए हैं। आइए जानते हैं, क्या हैं वे खास गुण।

पान में कई खास गुण होते हैं। इनमें से एक यौन शक्ति से जुड़ा है। आयुर्वेद के मुताबिक, पान यौन शक्ति को बढ़ाने के लिए काफी बेहतर है। हालांकि, पान तो अक्सर लोग ब्रेथ या माउथ फ्रेशनर के हिसाब से ही खाते हैं। पहले के समय में पान के इस गुण को ध्यान में रखकर ही रात को पति को पान खिलाने की परंपरा थी।

पान ऐसे ही कामोत्तेजक नहीं हो जाता है। पान को बनाने के दौरान सुपारी डाली जाती है, जो कामोत्तेजना बढ़ाने का काम करती है। पान बनाने में सुपारी, लौंग और गुलकंद डाला जाता है, जो पूरे शरीर के लिए पाचन शक्ति को बढ़ाने के साथ-साथ कामोत्तेजना को भी बढ़ाता है। साथ ही पान प्रजनन क्षमता को भी बेहतर बनाता है।

पाचन क्रिया को मजबूत करने में सहायक

पान पाचक क्रिया के लिए भी फायदेमंद है। पान सलाईवारी ग्लैंड को सक्रिय करके लार बनाने का काम करता है। इससे अधिक मात्रा में लार बनती है, जोकि खाने को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ने का काम करती है। कब्ज की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए भी पान की पत्ती चबाना काफी फायदेमंद है। गैस्ट्र‍िक अल्सर को ठीक करने में भी पान खाना काफी फायदेमंद है।

मुंह की दुर्गंघ दूर करने में सहायक

पान के पत्ते में कई ऐसे तत्व होते हैं, जो बैक्टीरिया के प्रभाव को कम करने में सहायक होते हैं। जिन लोगों के मुंह से दुर्गंध आ रही हो, उनके लिए पान का सेवन काफी फायदेमंद होता है। इसमें इस्तेमाल होने वाले मसाले जैसे लौंग, कत्था और इलायची भी मुंह को फ्रेश रखने में सहायक होते हैं। पान खानेवालों के लार में एस्कॉर्बिक एसिड का स्तर भी सामान्य बना रहता है। इससे मुंह संबंधी कई बीमारियां होने का खतरा कम हो जाता है।

मसूड़ों के लिए लाभदायक

पान मसूड़ों के लिए भी फायदेमंद है। मसूड़े में गांठ या फिर सूजन हो जाने पर पान का इस्तेमाल काफी फायदेमंद होता है। पान में पाए जाने तत्व इन उभारों को कम करने का काम करते हैं।

सामान्य बीमारियों में सहायक

पान सामान्य बीमारी जैसे सर्दी खांसी के लिए भी फायदेमंद है। यदि आपको सर्दी हुई है तो ऐसे में पान के पत्ते आपके लिए फायदेमंद रहेंगे। इसे शहद के साथ मिलाकर खाने से फायदा होता है। साथ ही पान में मौजूद एनालजेसिक गुण सिर दर्द में भी आराम देता है। चोट लगने पर पान का सेवन फायदेमंद होता है।

इस तरह से खाएं पान, बढ़ेगी सेक्स पॉवर

पान खाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप इसको पहले चबा लें। फिर मुंह के एक कोने में रख दें, जब तक वह घुल न जाये। पान खाने के बाद लगभग आधे घंटे तक कुछ भी नहीं खाए। जानकारों के मुताबिक, पान में शरीर में अच्छी तरह जब घुल जाता है, तब वह आपको शक्ति प्रदान करता है। सेक्स पॉवर बढ़ाने के लिए रात को खाने के बाद एक बार ही लेना अच्छा होता है।

– आयुर्वेदिक डॉक्टर अमर वर्मा

आयुर्वेदिक चमत्कार : गोबर और गोमूत्र से बने पंचगव्य थैरपी से ठीक हुआ कैंसर

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY