जय नारीवाद : समानांतर या ऊँचे जॉब प्रोफाइल वाला पति ही क्यों चाहिए?

आप लोगों ने दिल्ली का एक केस पढ़ा होगा, जिसमें एक क्लर्क पति अपनी पत्नी को किसी तरह पढ़ा-पढ़ा के MBA करवाता है।

पत्नी मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करने लगती है… फिर एक अच्छे सोसायटी में घर लेती है। फिर उसके बाद अपने पति को तलाक दे देती है।

कारण कि इनका पति इनके स्टेटस के आगे आड़े आने लगता है… पति का क्लर्क होना इनके स्टेटस को बट्टा लगा रहा होता है, सो तलाक दे दिया।

एक केस अपने इधर का भी है… एक पति जो कम पढ़ा लिखा था… लेकिन इसके बावजूद अपनी पत्नी को किसी तरह पैसे जोड़-जोड़ के LLB करवाता है।

जब पत्नी LLB के बाद वकील साहिबा बन जाती है तो अपने पति को तलाक दे देती हैं। कारण स्टेटस को सूट नहीं कर रहा होता है।

इस तरह कई केसेज़ आप लोगों की नज़र में भी होंगे।

अभी जो लड़की अच्छे खासे जॉब में है और अविवाहित है, वो किस तरह का पति चाहती है?

कम से कम उनके समानांतर जॉब या उससे हायर जॉब वाला। अपने जॉब से निम्न जॉब वाला पति तो कभी चाहती ही नहीं है। कारण? वही स्टेटस और स्टैंडर्ड।

और लड़की ही क्यों, लड़की के घरवाले भी नहीं चाहते है कि मेरी बेटी का ब्याह उनसे हो जो उनसे कमतर जॉब में हो।

ऐसी कितनी ही लड़कियां हैं जिनका ब्याह सिर्फ इस वजह से रुका हुआ है कि लेवल का लड़का नहीं मिल रहा है। उम्र निकली जा रही, लेकिन स्टेटस और स्टैंडर्ड से कोई कम्प्रोमाइज़ नहीं।

एक हाईली-फाइली जॉब प्रोफाइल वाले लड़के को अक्सर सिम्पल सी लड़की, बिना जॉब वाली के साथ शादी करते आपने देखा होगा, अनपढ़ लड़की से भी कर लेते हुए देखा होगा।

और ऐसे उदाहरण एक-दो नहीं बल्कि हजारों-लाखों में होंगे। यहां लड़का मस्त खुश रहता है। कोई स्टेटस फस्टेटस का लफड़ा नहीं आड़े आता है।

अब यहाँ शायद पुरुषवादी का कोण घुसा सकते हैं लोग कि मर्दों को तो सिर्फ दबने वाली औरतें ही पसंद होती हैं। दबा के रखने में ही इनकी मानसिकता प्रबल होती है जो सदियों से चली आ रही है। इसलिए ही अपने से कमतर लड़कियों से शादी करते हैं।

चलिये इस पुरुषवादी सोच को हम स्वीकार करते हैं। लेकिन अब तो ज़माना बदल रहा है न? नारी स्वतंत्रता बढ़ रही है न?..

पुरुषों से किसी मामले में कम नहीं है, पुरुषवादी सोच को पानी पिला रही है, नारीवाद प्रस्फुटित हो दायरा फैला रहा है… तो फिर अब क्या सोचना है?

आप इतने पढ़ लिख गए हैं, अच्छे खासे पोस्ट पर पहुँच गए हैं, जॉब ले लिए हैं तो फिर आपको अपने से हाई जॉब वाले लड़के ही क्यों चाहिए? क्या आप अपना स्टेटस मेंटेन करने के चक्कर में पुरुषवादी सोच को बढ़ावा नहीं दे रहे हैं?

आपको अपने से समानांतर या ऊँचे जॉब प्रोफाइल वाले ही क्यों चाहिए? क्या आप खुद किसी से दब कर रहना चाहती हैं? अगर नहीं तो फिर ऊँचे पोस्ट के ही लड़के क्यों चाहिए?

आप पुरुषवादी सोच का दमन कर अपने नारीवाद का झंडा बुलंद करने के लिए कम से कम अपनी ओर से पहल करना तो शुरू कीजिए।

किसी सिम्पल से बिना जॉब वाले लड़के से शादी कीजिये और उस लड़के के उद्धार के साथ-साथ अपना नारीवाद का परचम भी लहराइये। अब ज़माना बदल रहा है… तो पुरुषों को दबाने का टाइम अब आप लोगों का है।

पुरुषों का अपने से कमतर प्रोफाइल वाली लड़कियों से शादी करना अगर पुरुषवाद है तो आपके नारीवाद का परम कर्तव्य बनता है कि आप अपने से कमतर प्रोफाइल वाले लड़कों से ब्याह रचाना शुरू कीजिए।

जय नारीवाद।

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY