वीरे दी वेडिंग में माँ और बहनें : बोल्ड और अश्लीलता में फर्क न समझ पाने की अपनी मजबूरी

फ़न्तासी की परिपक्व चार युवरानियाँ जो हर समय रिश्तों को लेकर उलझन में हैं, रिश्ते जोड़ने को लेकर उलझन में हैं, रिश्ते तोड़ने को लेकर उलझन में हैं. बनते रिश्ते बिगाड़ने पर उतारू हैं और तिस पर विरोधाभास कहिये या महाविडम्बना; फ़िल्म का शीर्षक है ‘वीरे दी वेडिंग’. उन्मुक्तताएँ क्या इतनी व्याप जानी चाहिये कि … Continue reading वीरे दी वेडिंग में माँ और बहनें : बोल्ड और अश्लीलता में फर्क न समझ पाने की अपनी मजबूरी