ज़रूरी है इन झूठों को पहचानना और बेनकाब करना

मई 2014 में सत्ता से विदाई के पूर्व यूपीए सरकार के कार्यकाल के अन्तिम वित्तीय वर्ष 2013-14 में डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 5.83 लाख करोड़ हुआ था तथा इनडायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 4.96 लाख करोड़ हुआ था. अर्थात कुल टैक्स कलेक्शन 10.79 लाख करोड़ हुआ था.

जबकि इस वर्ष 2017-18 में डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 10.02 लाख करोड़ हुआ और इनडायरेक्ट टैक्स कलेक्शन लगभग 9.4 लाख करोड़ हुआ है.

अर्थात अर्थात कुल टैक्स कलेक्शन 19.42 लाख करोड़ हुआ है. यानि 2013-14 से लगभग 94% अधिक टैक्स कलेक्शन इस वर्ष (2017-18) में हुआ है.

मई 2014 में तत्कालीन यूपीए सरकार 311 अरब डॉलर का विदेशी मुद्रा भंडार छोड़कर गयी थी.

आज 4 साल बाद अप्रैल 2018 तक भारत का विदेशी मुद्रा भंडार बढ़कर 426 अरब डॉलर हो चुका था. अर्थात पिछले 4 वर्षों में भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में लगभग 40% की वृद्धि हुई है.

वर्ष 2015-16 में 271.9 मिलियन टन रिकॉर्ड खाद्यान उत्पादन के साथ पिछले सभी रिकॉर्ड टूट गए थे. वर्ष 2016-17 में 275.68 मिलियन टन तथा 2017-18 में 277.49 मिलियन टन रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन के साथ देश में लगातार पिछले 3 वर्षों से खाद्यान उत्पादन का नया रिकॉर्ड बन रहा है.

यूपीए शासनकाल के दौरान मार्च 2014 तक देश में बिजली उत्पादन क्षमता में वृद्धि की दर औसतन 4800 मेगावॉट प्रतिवर्ष थी. लेकिन मार्च 2014 के बाद पिछले 4 वर्षों के दौरान यह दर बढ़कर 24,000 मेगावॉट प्रतिवर्ष हो गयी है.

क्या उपरोक्त आंकड़े किसी बर्बाद तबाह अर्थव्यवस्था वाले ऐसे देश के हो सकते हैं जहां किसान तबाही की कगार पर खड़े हों.

आज उपरोक्त तथ्य इसलिए लिखने पड़े क्योंकि कल प्रदीप सौरभ नाम का धूर्त एक न्यूज़ चैनल पर विशेषज्ञ बनकर बैठा हुआ था और यह कहकर देश की जनता की आंखों में धूल झोंकने का, उसके साथ अपनी धोखाधड़ी का खेल खेलने का प्रयास करते हुए कह रहा था कि…

“2014 में देश की अर्थव्यवस्था जो बहुत अच्छी स्थिति में थी उसे पिछले 4 वर्षों में मोदी सरकार ने तबाह बर्बाद कर दिया है. हर औद्योगिक व्यवसायिक क्षेत्र में हाहाकार मचा हुआ है तथा किसान तबाही और बर्बादी की कगार पर खड़ा हुआ है.”

अतः सोचा कि इस धूर्त झूठे की तथ्यहीन झूठी लफ़्फ़ाज़ी के खिलाफ तथ्यों के साथ हल्ला बोलना जरूरी है. ताकि अधिक से अधिक लोग इस, और इस जैसे उन सभी धूर्तों झूठों को भलीभांति पहचान लें जो अब 2019 तक इसी तरह झूठ बोल बोलकर देश की जनता में झूठ और भ्रम का ज़हर घोलने में जुट गए हैं.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY