संघ को गांधी का हत्यारा बताने के केस में राहुल पर आरोप तय

मुंबई. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) मानहानि मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर आरोप तय कर दिए गए हैं. साल 2014 में राहुल ने महात्मा गांधी की हत्या में आरएसएस का हाथ बताया था.

महाराष्ट्र की भिवंडी अदालत में मंगलवार को हुई पेशी में राहुल गांधी हाज़िर हुए. इस दौरान उन पर इस मामले में आरोप तय किए गए.

सुनवाई के दौरान राहुल गांधी ने अपने आप को निर्दोष बताया, उन्होंने कहा कि मैं इस मामले में दोषी नहीं हूं.

मामले की सुनवाई के दौरान उनके साथ महाराष्ट्र के पूर्व सीएम अशोक चव्हाण और अशोक गहलोत भी रहे.

संघ कार्यकर्ता राजेश कुंटे ने 2014 में भिवंडी में राहुल गांधी का भाषण सुनने के बाद उनके खिलाफ केस दर्ज किया था. राहुल ने उस भाषण में कहा था कि महात्मा गांधी की हत्या के पीछे आरएसएस का हाथ था.

बता दें कि इस मामले में पहले राहुल गांधी सुप्रीम कोर्ट में इसे खारिज करने की गुहार लगा चुके हैं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उनसे मामले में खेद प्रकट करने को कहा था.

सुप्रीम कोर्ट ने तब कहा था कि राहुल को इस तरह से किसी संस्था को बदनाम नहीं करना चाहिए था. अगर वे इस मामले में अफसोस जाहिर नहीं करते हैं तो उन्हें कोर्ट में ट्रायल का सामना करना पड़ेगा. इस पर राहुल ने खेद व्यक्त करने की जगह अदालती कार्यवाही में शामिल होने की बात कही थी.

मंगलवार को हुई सुनवाई के दौरान जज ने बयान पढ़ते हुए कहा कि आपने आरएसएस संगठन को बदनाम किया. आपका बयान था कि आरएसएस के लोगों ने गोली मारी और सरदार पटेल ने लिखा है.

सुनवाई में कहा गया कि इस मामले में धारा 499 के तहत ये अपमान है और धारा 500 के तहत ये दंडनीय भी है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY