समय है यह दावा ठोकने का, भाजपा हिंदुओं की पार्टी है और रहेगी

घर में चूहे आ गए हैं. चूहे मारने की दवाई भी काम नहीं कर रही. शायद मुझे घर ढहा देना चाहिए…

यह सलाह दी है एक मित्र ने, जिन्होंने बताया कि उनके घर की छत में सीलन आ रही थी तो उन्होंने पूरा घर ही गिरवा दिया.

फिर से बनवाया. पूरी बरसात और फिर सर्दी भर, पूरा परिवार खुले में रहा. अभी गर्मियाँ शुरू हुई हैं तब तक घर बन कर तैयार हो गया.

एसी लगवाया है, जक्यूज़ी बाथ लगवाया है… शानदार घर है. रहेंगे तो ऐसे घर में, वरना जरा सी बारिश और सर्दी-गर्मी से डरने वालों में थोड़े ना हैं… महाराणा और छत्रपति के वंशज हैं.

ज़रा कोई ऐसे मित्र मिलें तो बताइएगा, जो घर की छत में सीलन हो तो घर गिरा देते हैं… पर ऐसे मिलेंगे नहीं.

हाँ, ऐसे सौ मिल जाएंगे जो यह सलाह देंगे कि भाजपा से नाराज़गी है तो चलिये, इसे हराइये. नई हिंदूवादी पार्टी बनाइये.

भले मानस, एक हिंदूवादी पार्टी रातोरात खड़ी कर लेंगे आप?

हमारे पुरखों की तीन पीढ़ी खप गई. डॉ श्यामाप्रसाद मुखर्जी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय, अटल बिहारी वाजपेयी जैसे मनीषियों को 70 साल लग गए, और आप फटाफट 2019 तक एक नया हिन्दू विकल्प चाहते हैं?

इतना फटाफट तो सिर्फ ठेले का चाउमीन तैयार होता है… खाइए चाउमीन…

मैं तो भाजपा के साथ हूँ, भाजपा के साथ ही रहूँगा. टूटा-फूटा जैसा भी है, यही है मेरा हिन्दू विकल्प. मैं अपने घर की मरम्मत कराने वाला हूँ. घर गिराकर रातोंरात नया घर बनाने की सामर्थ्य और समझ मुझमें तो नहीं है. अपनी आप जानें.

हाँ, भाजपा का नेतृत्व कुछ करेगा और हम पीछे पीछे चलेंगे, यह दासत्व भाव छोड़िए. यह ज़रूर ध्यान रहे कि भाजपा वहाँ जाएगी जहाँ हम लेकर जाएँगे.

भाजपा हिंदुओं की पार्टी नहीं है या नहीं रही, इस शिकायत का समय नहीं है. भाजपा हिंदुओं की पार्टी है और रहेगी, यह दावा ठोकने का समय है.

यह घर हमारा अपना है और यह मानने से ही अपना होगा. मैं इस घर में रहता हूँ यह प्रमाण काफी है. इसकी रजिस्ट्री किसके नाम से है, यह लड़ाई बाद में लड़ लेंगे.

लेकिन इसमें हम रहते हैं इसलिए हमारा अपना है और इसे छोड़ कर हम कहीं नहीं जाने वाले. मोदी को जो करना हो, करें… हम तो भाजपा का ही प्रचार करेंगे और हिंदुत्व के एजेंडे पर ही करेंगे.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY